Current Affairs
Hindi
Share

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने 25 मई 2016 को लखनऊ स्थित बाबासाहब भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय परिसर में 'भारतवाणी' वेब पोर्टल और मोबाइल एप का लोकार्पण किया.
•    उन्होंने मोबाइल एप के बारे में बताया कि एप में अभी 22 भारतीय भाषाओं के शब्दकोष जोड़े गए हैं.
•    एक साल के भीतर इसमें 250 भाषाओं के शब्दकोष शामिल किए जाएंगे.
•    देश में 40 करोड़ से अधिक लोग हिंदी में काम करते हैं लेकिन इंटरनेट पर एक फीसद से कम जानकारी हिंदी में मिलती है.
•    प्रौद्योगिकी की मदद से भाषाओं को बचाने में भी सफलता मिलेगी.
•    भारत के इतिहास में पहली बार तकनीक का इस्तेमाल करते हुए भारत की असीम विरासत को दुनिया के सामने लाया गया है।.
•    भारत में 1535 मातृभाषाएं हैं और पूरी दुनिया मानती है कि बच्चों को मातृभाषा में पढ़ाया जाना चाहिए. यह पोर्टल इस दिशा में भी मददगार साबित होगा.

Read More
Read Less
Share

इंटेल इंडिया ने ' डिजिटल इंडिया "का समर्थन करने के लिए नई पहल की

इंटेल इंडिया ने डिजिटल इंडिया कार्यक्रम को बल देने के लिए तीन नए नवाचार कार्यक्रमों की घोषणा की। 

•    कंपनी ने तीन परियोजनाएं लॉन्च की, जो ग्रामीण इलाकों में जमीनी स्तर पर डिजिटल साक्षरता बढ़ाने के लिए डिजाइन किए गए हैं और दूसरी श्रेणी तथा अन्य छोटे शहरों में नागरिकों का कौशल बढ़ाएंगे और स्थानीय स्तर पर नवाचार को बढ़ावा देंगे।
•    इंटेल कारपोरेशन के एशिया प्रशांत एवं जापान के लिए महाप्रबंधक रॉबी स्विनेन ने कहा, “हम डिजिटल इंडिया जैसे विभिन्न अभियानों में सरकार के साथ अपने सहयोग के द्वारा हुई प्रगति से उत्साहित हैं। 
•    इसके द्वारा प्रौद्योगिकी एवं रचनात्मकता भारत की मुख्य धारा में समाविष्ट हो रही है।”
•    अपने ‘एक कदम उन्नति की ओर’ अभियान को आगे बढ़ाते हुए इंटेल इंडिया ने हरियाणा में पहली बार करनाल में अपना नया उन्नति केंद्र एट कॉमन सर्विस सेंटर (यूके एट सीएससी) ई-लांच किया। 
•    यूके एट सीएससी राज्य के लोगों के लिए साझा डिजिटल लर्निग सेंटर के रूप में काम करेगा।
•    इंटेल इंडिया सरकार के साथ काम करते हुए इस साल 10 राज्यों में 100 यूके एट सीएससी सुविधाओं का नेटवर्क विकसित करने का प्रयास कर रहा है। 
•    इस तरह की 10 सुविधाएं तेलंगाना में पहले से ही कार्यशील हैं।
•    इंटेल इंडिया ने ‘डिजिटल उन्नति’ वेबसाइट की घोषणा भी की, जो सीएससी ई-गवर्नेस सर्विसेस इंडिया लिमिटेड के सहयोग से स्थापित की जाएंगी। 
•    इससे ग्राम स्तर के उद्यमी ऑनलाइन माध्यम से यह सीख सकेंगे कि एक पर्सनल कंप्यूटर को कैसे असेंबल किया जाए एवं इससे उनका प्रौद्योगिकी ज्ञान भी बढ़ेगा।

Read More
Read Less
Share

बसों में पैनिक बटन और कैमरा अनिवार्य

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि सार्वजनिक परिवहन सेवाओं की बसों में पैनिक बटन, सीसीटीवी कैमरा और वाहनों का पता लगाने वाला उपकरण लगाना अनिवार्य होगा ताकि महिला यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। 
•    सरकार इन मापदंडों के बारे में अधिसूचना दो जून को जारी करेगी। 
•    निर्भया की दुर्भाग्यपूर्ण घटना के बाद महिला सुरक्षा सुनिश्चित करने के वास्ते निर्णय किया गया है कि सभी सार्वजनिक परिवहन बसों में आपातकालीन पैनिक बटन, सीसीटीवी कैमरा और जीपीएस समर्थित उपकरण लगाना अनिवार्य होगा। 
•    केंद्रीय मंत्री ने एक पायलट परियोजना का शुभारंभ किया जिसके तहत राजस्थान राज्य सड़क परिवहन निगम ऐसी 10 लक्जरी बसें और 10 सामान्य बसों का परिचालन करेगी जिसमें आपात बटन और सीसीटीवी कैमरा लगे हैं।
•    गडकरी ने कहा कि पूरे देश में सभी सार्वजनिक परिवहन बसों में ऐसे उपकरण लगाने के संबंध में एक अधिसूचना दो मई को जारी होगी। 
•    निर्माण के स्तर पर ही बसों में पैनिक बटन, सीसीटीवी कैमरा एवं अन्य उपकरण लगाने की बात की जा रही हैं।

Read More
Read Less
Share

13 शहर स्‍मार्ट सिटी प्रोजेक्‍ट में शामिल

केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट की दौड़ शामिल नए शहरों का ऐलान किया। 
•    नए शहरों में लखनऊ, भागलपुर और फरीदाबाद को चुना गया है। इस लिस्ट में लखनऊ की रैंकिग टॉप पर रही। 
•    इस लिस्ट के जारी होने से पहले ये सभी शहर इस दौड़ में खराब रैकिंग के चलते पिछड़ गए थे। बाद में मंत्रालय ने इन्हें अपनी रैंक सुधारने का मौका दिया था। 
•    शहरी विकास मंत्रालय के मुताबिक फास्ट ट्रैक प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले शहरों के बीच यह मुकाबला अप्रैल में शुरू किया गया था। 
•    इसके तहत देश के 23 शहरों ने नए सिरे से अपनी दावेदारी पेश की थी। 
•    नायडू द्वारा जारी किए गए 23 शहरों में से 15 शहर ऐसे हैं, जो विभिन्न राज्यों की राजधानी हैं। 
•    केंद्र सरकार की ओर से देश के 100 शहरों को स्मार्ट सिटी बनाने की घोषणा की थी। 
•    इस योजना के तहत दूसरे चरण में 23 शहरों की दावेदारी में से 13 के नामों का ऐलान कर दिया गया। 
•    स्मार्ट सिटी के लिए चुने गए हर शहर को पहले साल 200 और उसके बाद चार साल के लिए हर साल 100 करोड़ रुपए मिलेंगे। 
•    इस प्रोजेक्ट पर केंद्र सरकार आगामी पांच साल में 48 हजार करोड़ रुपए खर्च करेगी। इस धनराशि में कुछ खर्च राज्य सरकारों को भी करना होगा। 
•    13 फास्ट ट्रैक स्मार्ट शहरों की लिस्ट (1) लखनऊ (2) वरांगल (3) धर्मशाला (4) चण्डीगढ़ (5) नया रायपुर (6) न्यू टाउन कोलकाता (7) भागलपुर (8) पणजी (9) पोर्ट ब्लेयर (10) इंफाल (11) रांची (12) अगरतला (13) फरीदाबाद 

Read More
Read Less
Share

भारत का पहला पुनः प्रयोग किया जाने वाला स्पेस शटल आरएलवी-टीडी लॉन्च

•    भारतीय अन्तरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने 23 मई 2016 को पुनः प्रयोग हो सकने वाला स्वदेशी स्पेस शटल (आरएलवी-टीडी) श्रीहरिकोटा (आंध्र प्रदेश) से लांच किया.
•    इसे सॉलिड राकेट मोटर (एसआरएम) द्वारा ले जाया गया. नौ टन के एसआरएम का डिजाईन इस प्रकार से बनाया गया है जिससे यह धीरे-धीरे घर्षण को सहन करता है.
•    शटल को लॉन्च करने के बाद व्हीकल को बंगाल की खाड़ी में बने वर्चुअल रनवे पर लौटाने का फैसला किया गया. 
•    सॉलिड फ्यूल वाला स्पेशल बूस्टर इसकी फर्स्ट स्टेज रही. ये आरएलवी-टीडी को 70 किमी तक ले गई. इसके बाद आरएलवी-टीडी को बंगाल की खाड़ी में नेविगेट करा लिया गया. 
•    यह स्पेस शटल रियूजेबल लॉन्च व्हीकल-टेक्नोलॉजी डिमॉन्स्ट्रेटर (RLV-TD) से लॉन्च होगा. 
•    6.5 मीटर लंबे हवाई जहाज की तरह दिखने वाले स्पेसक्राफ्ट का वजन 1.75 टन है.
•    इस परियोजना की लागत 95 करोड़ रूपये है. यह अमेरिका के स्पेस शटल जैसा ही है.
•    आरएलवी-टीडी के जिस मॉडल का प्रयोग किया जाएगा, वह इसके अंतिम रूप से 6 गुना छोटा है. आरएलवी-टीडी का अंतिम रूप बनने में 10-15 साल का समय लगेगा.
•    इसका निर्माण थिरुवनंतपुरम स्थित विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर में 600 वैज्ञानिकों की टीम द्वारा पांच वर्ष में किया गया.

Read More
Read Less
Share

21 मई को आतंकवाद विरोधी दिवस के रूप में मनाया गया

संचार क्रांति के जनक कहे जाने वाले पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी की 25वीं पुण्यतिथि के अवसर पर विभन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।
•    कांग्रेस कार्यालय में भी महापुरुष की पुण्यतिथि आतंकवाद विरोध दिवस के रूप में मनाई गई।
•    आतंकवाद विरोधी दिवस मनाने का उद्देश्य राष्ट्रीय हितों पर पड़ने वाले प्रतिकूल प्रभावों, आतंकवाद के  कारण आम जनता को हो रही परेशानियों, आतंकी हिंसा से दूर रखना है। 
•    इसी उद्देश्य से स्कूल-कॉलेज और वि‍श्ववि‍द्यालयों में आतंकवाद और हिं‍सा के खतरों पर परि‍चर्चा, वाद-वि‍वाद, संगोष्ठी, सेमीनार और व्याख्यान आदि‍ का आयोजन कि‍या जाता है।
•    राजीव गांधी की देश के गरीबों के प्रति जो सोच थी वह हमेशा उदारवादी व उनके उत्थान की ही रही •    इसी सोच को आगे लेकर वह पंचायती राज व्यवस्था लागू करने के लिये आगे बढ़ते रहे हैं। 
•    देश में कम्प्यूटर युग की शुरूआत राजीव गांधी जी की ही देन है

Read More
Read Less
Share

भारत, एंटीबायोटिक दवाओं पर रेड लाइन अभियान की हुई तारीफ़

लाल अभियान के साथ दवाओं के रोगाणुरोधी प्रतिरोध पर वैश्विक समीक्षा द्वारा सराहना की गई।
•    2014 में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन और अर्थशास्त्री जिम ओ'नील की अध्यक्षता में इसकी समीक्षा हुई थी  ।
•    समीक्षा के अनुसार, एंटीबायोटिक दवाओं पैकेजिंग के लिए लाल रेखा अभियान' के  तहत भारत अपने विचार दुनिया के समक्ष रखने के साथ साथ वो इस विचारधारा का नेतृत्व भी कर रहा है ।
•    अभियान फ़रवरी 2016 को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा शुरू किया गया था ।
•    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने पिछले दिनों सर्दी-खांसी और बुखार से लेकर मधुमेह तक के इलाज के लिए प्रयुक्त लगभग 350 दवाओं को प्रतिबंधित कर दिया़  
•    इनमें कुछ एंटीबायोटिक थीं, तो कई फिक्स्ड डोज कॉम्बिनेशनवाली दवाइयां. 
•    मंत्रालय का कहना है कि ये लोगों के स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह हैं और इनके सुरक्षित विकल्प मौजूद हैं. 
•    आजकल मामूली दिक्कतों पर एंटीबायोटिक्स लेना एक आदत बनती जा रही है, जो आगे चल कर कई परेशानियां पैदा करती हैं. 
•    दुनिया का पहला एंटीबायोटिक पेनिसिलिन, निमोनिया जैसी बीमारी में बेहद कारगर था़, सिर्फ एक खुराक में असर दिखानेवाली यह दवा, निमोनिया के अलावा कई अन्य बीमारियों में रामबाण मानी जाती थी, क्योंकि एंटीबायोटिक की खोज ही इसी से शुरू हुई थी़  लेकिन अब निमोनिया के लिए भी यह नाकाफी है, इसकी जगह मरीज को कई अन्य एंटीबायोटिक देने पड़ते हैं. 

Read More
Read Less
Share

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने इंटेलीजेंट ऑपरेशन सेंटर का उद्घाटन किया

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 19 मई 2016 को राष्ट्रपति भवन में इंटेलीजेंट ऑपरेशन सेंटर (आईओसी) का उद्घाटन किया.
•    राष्ट्रपति ने मोबाइल एप्प मॉनिटर का भी उद्घाटन किया ताकि प्रेसिडेंट्स एस्टेट को स्मार्ट टाउनशिप में बदला जा सके.
•    यह सॉफ्टवेयर आईबीएम द्वारा विकसित किया गया है.
•    यह एस्टेट में मौजूद विभिन्न स्रोतों से आंकड़े एकत्रित करके उसे उपयोग करता है.
•    यह आंकड़ों को एकीकृत दृश्य प्रदान करता है साथ ही रियल टाइम डाटा तथा विश्लेषण भी मुहैया कराता है. इससे सम्बंधित एजेंसियों को समस्याओं के समाधान हेतु हल निकालने के लिए आपस में तालमेल बैठाने एवं कार्यकुशलता में सटीकता लाने में सहायता मिलती है.
•    मॉनिटर मोबाइल एप्लीकेशन यहां के निवासियों के लिए एक टूल है जिसे इंटेलीजेंट ऑपरेशन सेंटर द्वारा संचालित किया जायेगा.
•    इससे निवासी अपने तथा यहां के संसाधनों (उर्जा, जल, कृषि, अपशिष्ट एवं सुरक्षा) की स्मार्ट तरीके से निगरानी रख सकेंगे.
•    इससे निवासी टूटी हुई स्ट्रीट लाइट, बिजली न आना, पानी की बर्बादी आदि की सूचना भेज सकेंगे एवं उनके द्वारा दर्ज की गयी शिकायत पर हो रही कार्यवाही की भी निगरानी कर सकेंगे.
•    इसमें अधिकारियों की जानकारी, उनका पता एवं सम्बंधित विभाग की जानकारी दी जाएगी.
•    इससे एस्टेट के निवासी सामाजिक रूप से अधिक जिम्मेदार, जागरुक एवं एक दूसरे के लिए सहयोगी भूमिका निभाने में सक्षम होंगे.

Read More
Read Less
Share

चक्रवात रोनू उड़ीसा और आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्र से टकराया

रोनू तूफान की वजह से आंध्र प्रदेश तटीय इलाकों में बारिश हो रही है। 
•    नेल्लोर में तेज हवा और भारी बारिश की वजह से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। 
•    तटीय इलाकों में बिजली की आपूर्ति पर भी असर पड़ा है। तूफान से निपटने के लिए एनडीआरएफ की चार टीमों को रवाना कर दिया गया है। 
•    राज्य सरकार का कहना है कि आपदा प्रबंधन टीम किसी भी हालात का सामना करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। रोनू तूफान की वजह से उड़ीसा के तटीय इलाके प्रभावित हुए हैं।मौसम विभाग के मुताबिक तूफान की रफ्तार में आज शाम तक इजाफा हो सकता है। 
•    तटीय इलाकों में फिलहाल 60 से 70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चल रही हैं। 
•    साइक्लोन रोनू में मौजूद हवाओं की रफ्तार 70 से 80 किलोमीटर प्रति घंटे है। 
•    अगले 12 से 24 घंटों में इसके भीतर घूम रही हवाओं की रफ्तार बढ़कर 95 से 105 किलोमीटर प्रति घंटे हो जाएगी। और साइक्लोन रोनू सिवियर साइक्लोन स्टॉर्म की कैटेगरी में आ जाएग। 
•    मौसम विभाग ने उत्तरी तमिलनाडु और पुड्डुचेरी के तटीय इलाकों में अगले 24 घंटे तक 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने की भविष्यवाणी की है. 
•    यहां भी लोगों को अगले 24 घंटे तक समंदर के किनारे न जाने की सलाह दी गई है। इसके बाद साइक्लोन रोनू बांग्लादेश की तरफ मुड़ना शुरू कर देगा। 
•    मौसम विभाग के मुताबिक 21 मई की रात से रोनू तूफान की रफ्तार 70 से 80 किलोमीटर प्रति घंटे रह जाएगी।  

Read More
Read Less
Share

देश के पहले चालक रहित मेट्रो को ट्रायल के लिए रवाना किया गया

विश्वस्तरीय परिवहन सुविधा देकर दुनिया में अपनी पहचान बना चुकी दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन (डीएमआरसी) अब चालक रहित मेट्रो के परिचालन के लिए तैयार है। 
•    मंगलवार को मुकुंदपुर डिपो से नवनिर्मित मजलिस पार्क मेट्रो स्टेशन के बीच इसका ट्रायल होगा। 
•    केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शाम साढ़े पांच बजे हरी झंडी दिखाकर देश की पहली चालक रहित मेट्रो को रवाना करेंगे। ये मेट्रो कंप्यूटर नेटवर्क द्वारा स्वत: ऑपरेट होंगी।
•    हालांकि, शुरुआत में चालक रहित मेट्रो में ऑपरेटर मौजूद रहेंगे ताकि जरूरत पड़ने पर ब्रेक लगा सकें और स्टार्ट कर सकें। 
•    सुरक्षा मानकों पर खतरा उतरने और पूरी तरह संतुष्ट होने के बाद ही इन्हें बिना चालक के चलाई जाएगी।
•    चालक रहित मेट्रो के ट्रायल के लिए अभी दूरी काफी कम रखी गई है। मुकुंदपुर डिपो से मजलिस पार्क मेट्रो स्टेशन के बीच की दूरी करीब 600 मीटर है। 
•    तीसरे चरण में जनकपुरी पश्चिम-बोटेनिकल गार्डन और मजलिस पार्क-शिव विहार मेट्रो लाइनों पर 81 चालक रहित मेट्रो चलाने की योजना है। 

Read More
Read Less

All Rights Reserved Top Rankers