toprankers
Exams
Blog
Plans
Plans
Current Affairs
Hindi
Share

ब्रिक्‍स की मादक द्रव्‍य नियंत्रण एजेंसियों के कार्य समूह की बैठक दिल्ली में

ब्रिक्स  की मादक द्रव्य् नियंत्रण एजेंसियों के प्रमुखों के मादक द्रव्यव रोधी कार्य समूह की बैठक दिल्ली में शुरू हुई जिसमे नार्को आतंकवाद और काले धन को वैध करने संबंधित मुद्दों पर चर्चा की।

•    एक दिन की इस बैठक का केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने उद्घाटन किया गया।
•    यह भारत के नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) द्वारा आयोजित किया गया है।
•    बैठक में ब्रिक्स (ब्राजील-रूस-भारत-चीन-दक्षिण अफ्रीका) के सदस्य देशों के प्रतिनिधियों की भागीदारी ले रहे हैं।
•    भारतीय प्रतिनिधिमंडल की अध्यक्षता राजीव राय भटनागर, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के महानिदेशक (एनसीबी) ने की।
•    राजस्व विभाग, वित्त मंत्रालय, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय, स्वास्थ्य मंत्रालय के संघ और परिवार कल्याण मंत्रालय और नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के साथ-साथ  गृह मंत्रालय के केन्द्रीय मंत्रालय के कई अधिकारी भी इसमें शामिल होंगे ।
•    नशीली दवा विरोशी एजेंसियों के प्रमुखों के समूह की बैठक को मार्च 2013 में दक्षिण अफ्रीका के दुर्बन में हुई ‘इठेकावानी घोषणा' के आधार पर आयोजित किया गया।

Read More
Read Less
Share

भारत इस सप्ताह ब्रिक्स के नशा विरोधी देशों की मेजबानी करेगा

भारत नार्को आतंकवाद और काले धन को वैध करने के लिए संबंधित मुद्दों पर चर्चा करने के लिए ब्रिक्स देशों के नशा विरोधी एजेंसियों के प्रमुखों की मेजबानी करने जा रहा है।
•    इसमें ब्राजील-रूस-भारत-चीन-दक्षिण अफ्रीका के साथ आयोजित किया जाएगा।
•    8 जुलाई, 2016 को एक दिवसीय बैठक नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) द्वारा आयोजित किया जाएगा।
•    उच्च स्तरीय बैठक के एजेंडे में व्यापारियों और रसायनों के मोड़, नया साइकोएक्टिव  पदार्थों के उपयोग सहित अवैध नशीली दवाओं की तस्करी के बारे में चर्चा होगी ।
•    यह भी ध्यान दिया जाएगा की समुद्री रास्तों से नशीले पदार्थों की तस्करी, नार्को आतंकवाद और नशीली दवाओं के काले धन को बढ़ावा न मिले ।
•    सभी ब्रिक्स देश प्रभावी ढंग से इन मुद्दों से साथ निपटने के लिए और अवैध नशीले पदार्थों पर  प्रभावी निगरानी रखने के लिए सहयोग बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा करेंगे।
•    भारत ने 2012 के बाद दूसरी बार ब्रिक्स अध्यक्षता में कार्यभार संभाल लिया है।
•    इसका आयोजन अक्टूबर 2016 में गोवा के आठवें वार्षिक शिखर सम्मेलनमें किया जाएगा ।

Read More
Read Less
Share

दुनिया की पहली एमएमए सुपर फाइट लीग की मेजबानी करेगा भारत

भारत 26 अगस्त से एक अक्तूबर तक दुनिया की पहली मिश्रित मार्शल आर्ट्स (एमएमए) ‘सुपर फाइट लीग’ की मेजबानी करेगा.

•    फ्रेंचाइजी आधारित इस लीग में दिल्ली, उत्तरप्रदेश, मुंबई, हरियाणा, बेंगलूर, पंजाब, पुणे और गोवा की आठ टीमें हिस्सा लेंगी. 
•    यह लीग अनूप कुमार, सीजे सिंह, अमित राय, ध्रुव चौधरी जैसे भारत के एमएमए खिलाड़ियों को अपना कौशल दिखाने का मंच देगी.
•    दुनिया की पहली एमएमए सुपर फाइट लीग की मेजबानी करेगा भारत
•    प्रत्येक टीम में नौ भारतीय और तीन अंतरराष्ट्रीय फाइटर होंगे. 
•    महिलाओं को भी इस चैम्पियनशिप में बराबरी का मौका मिलेगा. 
•    पुरूष और महिला मिलाकर कुल 96 फाइटर चुनौती पेश करेंगे.
•    सुपर फाइट लीग के सीईओ बिल दोसांज के मुताबिक, "भारतका कल्चर विविधता से भरा हुआ है और जनसंख्या इसकी बड़ी ताकत है। 
•    सुपर फाइट लीग के पहले संस्करण में महिलाओं की कैटेगरी भी होगी, जोकि टूर्नामेंट में हर टीम के परिणाम में अहम भूमिका अदा करेगी। 
•    इस साल सुपर फाइट लीग में भारत और दुनिया के कुल 96 फाइटर्स शामिल होंगे, जिसमें महिला, पुरुष दोनों शामिल हैं। 
•    सुपर फाइट लीग में यह फाइटर्स दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मुंबई, हरियाणा, बैंगलोर, पंजाब, पुणे और गोवा की टीम होगी। 
•    हर टीम में 9 भारतीय और 3 अंतरराष्ट्रीय फाइटर्स होंगे। 
•    लीग स्टेज में कुल 72 बाउट्स होंगी, जिसके बाद 2 सेमीफाइनल, तीसरे-चौथे स्थान के लिए फाइट और फाइनल मुकाबला होगा

Read More
Read Less

All Rights Reserved Top Rankers