toprankers
Exams
Blog
Plans
Plans
Current Affairs
Hindi
Share

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने जुलाई 2016 में विवादास्पद आतंकवाद विरोधी कानून में संशोधन को अपनी मंजूरी दे दी.

•    यह आतंकवाद विरोधी संशोधन को अमेरिकी के खुफिया एजेंसी द्वारा बिग ब्रदर का दर्ज़ा दिया गया है
•    आलोचकों का कहना है कि इसके बाद इंटरनेट और दूरसंचार कंपनियों को अरबों खर्च करने पड़  सकते हैं
•    इस नये संशोधन के बाद कानून प्रवर्तन एजेंसियों को किसी भी न्यायिक निरीक्षण के बिना किसी भी उपयोगकर्ता के संदेशों को पढने, देखने का अधिकार प्रदान किया जाएगा।
•    इसके तहत सुरक्षा एजेंसिओं को किसी भी उपयोगकर्ताओं के 6 महीने तक के कॉल, संदेश , तस्वीरें और वीडियो को स्टोर करने का अधिकार मिल जाएगा इसके अलावा वो मेटाडाटा को 3 साल तक स्टोर करने की अनुमति देता है।
•    कई अपराधों में सजा की उम्र को 14 वर्ष से कम कर दिया गया है 
•    आतंकवाद के लिए उकसाने जैसे अपराधों में भी जेल की सजा हो सकती है ।

Read More
Read Less
Share

अमेरिका ने मानवाधिकारों के हनन के लिए उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन पर प्रतिबंध लगाया

अमेरिका के  विदेशी संपत्ति नियंत्रण कार्यालय (ओएफएसी) के खजाना विभाग ने 6 जुलाई 2016 को उत्तर कोरियाई शासन के शीर्ष अधिकारियों और नेता किम जोंग उन को मानवाधिकारों के हनन का दोषी पाया.•    यह पहली बार है जब अमेरिका मानवाधिकार के उल्लंघन के आधार पर उत्तर कोरिया के नेता पर प्रतिबंध लगा रहा है. 
•    दोषी पाए गए लोगों में दस अन्य व्यक्ति और पांच संस्था शामिल हैं.
•    इन्हें उत्तर कोरिया स्वीकृति एवं नीति संवर्धन अधिनियम, 2016 के तहत उत्तर कोरिया में मानवाधिकारों के हनन या सेंसरशिप पर रिपोर्ट के निष्कर्ष के आधार पर प्रतिबंधित किया गया है.
•    ओएफएसी ने इससे पहले तीन व्यक्तियों और तीन संस्थाओं को भी नामित किया था, इन्हें भी देश के विभागीय रिपोर्ट में शामिल किया गया है.

•    दंड स्वरूप इनकी अमेरिका की किसी भी संपत्ति को जब्त कर लिया जाएगा और कोई भी अमेरिकी नागरिक इनके साथ व्यापार नहीं करेगा. 
•    उत्तर कोरिया अपने परमाणु गतिविधियों की वजह से पहले से ही व्यापक प्रतिबंध झेल रहा है लेकिन विश्लेषक अमेरिका के इस कदम को देश को अलग– थलग करने के उसके प्रयासों को तेज करने के तौर पर देख रहे हैं। 
•    इसके साथ ही  बैंक सहस्राब्दि के अपने ग्राहकों को वे जब और जहां चाहें, अपने दैनिक जीवन के हिस्से के तौर पर बैंकिंग करने की सुविधा देता है. 

Read More
Read Less
Share

ग्रेट बैरियर रीफ 2016 के सर्वश्रेष्ठ स्थान घोषित

ग्रेट बैरियर रीफ 2016 के सर्वश्रेष्ठ स्थान घोषित किया गया है. इसे छुट्टियों के लिए भी सर्वश्रेष्ठ स्थान माना गया है .
•    ग्रेट बैरियर रीफ, क्वींसलैंड के उत्तरी-पूर्वी तट के समांतर बनी हुई, विश्व की यह सबसे बड़ी मूँगे की दीवार है।
•    इस दीवार की लंबाई लगभग 1200 मील है। 
•    यह कई स्थानों पर खंडित है एवं इसका अधिकांश भाग जलमग्न है, परंतु कहीं-कहीं जल के बाहर भी स्पष्ट दृष्टिगोचार होती है। 
•    समुद्री तूफान के समय अनेक पोत इससे टक्कर खाकर ध्वस्त हो जाते हैं। 
•    फिर भी, यह पोतचालकों के लिये विशेष सहायक है, क्योंकि दीवार के भीतर की जलधारा इस बृहत शैलभित्ति द्वारा सुरक्षित रहकर तटगामी पोतों के लिये अति मूल्यवान् परिवहन मार्ग बनाती है तथा पोत इसमें से गुजरने पर खुले समुद्री तूफानों से बचे रहते हैं।

Read More
Read Less
Share

आइसलैंड राष्ट्रपति चुनाव में विजयी हुए प्रोफेसर जोहानसन

आइसलैंड में राजनीति के नए चेहरे एवं इतिहास के प्रोफेसर गुडनी जोहानसन ने 39.1 प्रतिशत वोटों के साथ राष्ट्रपति चुनाव में जीत हासिल कर ली है। 
•    इस आशय की घोषणा सार्वजनिक टीवी चैनल ‘आरयूवी’ पर रविवार (26 जून) की गयी। 
•    अप्रैल में हुए तथा-कथित पनामा पेपर्स लीक के बाद जोहानसन ने राष्ट्रपति चुनाव लड़ने का फैसला लिया। इस पेपर्स लीक में विदेशों में मौजूद बैंक खातों का ब्योरा था, जिसमें आइसलैंड के कई नेताओं का भी नाम था। 
•    पूरे चुनाव प्रचार के दौरान सत्ता-विरोधी लहर पर सवार रहे और अपने गैर-विभाजनकारी, स्वतंत्र राष्ट्रपतित्व के दृष्टिकोण पर जोर देते रहे। 
•    यह जीत उनके लिए बड़ी खुशी लेकर आई है क्योंकि प्रोफेसर रविवार (26 जून) को अपना 48वां जन्मदिन मना रहे हैं। 
•    बिना किसी पार्टी के समर्थन चुनाव लड़ रही महिला उद्योगपति हाला तोमास्डोतिर 27.9 प्रतिशत मतों के साथ दूसरे स्थान पर रही हैं। 
•    आइसलैंड में राष्ट्रपति का पद भारतीय राष्ट्रपति के पद के समान ही है। देश में ज्यादा महत्वपूर्ण आम चुनाव वसंत के मौसम में होने हैं। 
•    जोहानसन अब 73 वर्षीय उलोफुर रगनार ग्रिमसन का स्थान लेंगे। वह पिछले 20 वर्ष से राष्ट्रप्रमुख हैं। 

Read More
Read Less
Share

नेपाल ने नागरिकों के अफगानिस्तान, इराक एवं सीरिया में कार्य करने पर प्रतिबन्ध लगाया

नेपाल ने 24 जून 2016 को आतंकवाद प्रभावित देशों – अफगानिस्तान, इराक, सीरिया एवं लीबिया में नागरिकों के कार्य करने पर प्रतिबन्ध लगाने की घोषणा की. इस संदर्भ में कैबिनेट स्तर की मीटिंग में निर्णय लिया गया. इससे पहले काबुल में हुए तालिबानी आत्मघाती हमले में 13 नेपाली सुरक्षाकर्मी मारे गये थे.
मारे गये नेपाली सुरक्षाकर्मी काबुल स्थित कनाडियन दूतावास में तैनात थे. 20 जून 2016 को अतंकवादियों द्वारा एक मिनीबस पर बम से हमला करके इसे अंजाम दिया गया.
•    सरकार ने नेपाल के नागरिकों को आतंकवाद प्रभावित देशों के लिए लेबर परमिट न देने का निर्णय दिया.
•    नेपाल सरकार ने अफगानिस्तान सरकार के साथ कूटनीतिक वार्ता आयोजित किये जाने का भी निर्णय लिया ताकि वहां कार्यरत नेपाली लोगों को सुरक्षा मुहैया कराई जा सके.
•    प्रभावित लोगों के परिवारों को 10 लाख नेपाली रुपये दिए जायेंगे.
•    कनाडा सरकार से भी हमले से प्रभावित लोगों के परिवारों को राहत राशि एवं सहायता दिए जाने का आह्वान किया जायेगा.
•    रिपोर्ट के अनुसार, मारे गये नेपाली सुरक्षाकर्मी ब्रिटिश एजेंसी द्वारा भर्ती किये गये थे. काबुल स्थित कनाडा दूतावास में 147 नेपाली नागरिक कार्यरत हैं. नेपाल सरकार ने कनाडा दूतावास में कार्यरत अन्य 24 नागरिकों को भी वापस देश में बुलाने का निर्णय लिया.

Read More
Read Less
Share

यूरोपियन यूनियन द्वारा प्रवासी संकट से निपटने हेतु नया सीमा समझौता

यूरोपियन यूनियन ने 22 जून 2016 को प्रवासियों के संकट से निपटने हेतु बॉर्डर एंड कोस्टगार्ड फ़ोर्स तैयार करने का निर्णय लिया.
•    प्रवासी संकट से निपटने के लिए ईयू की यह फ़ोर्स ग्रीस एवं इटली में अवैध रूप से प्रवेश करने वाले प्रवासियों पर नज़र रखेगी.
•    28 ईयू देशों द्वारा अपनाये गये इस निर्णय को यूरोपियन कमीशन द्वारा जारी किया गया था. कमीशन ग्रीष्म ऋतु से पहले यह फ़ोर्स तैयार करना चाहता था.
•    यूरोपियन संसद इस संबंध में जून 2016 के चौथे सप्ताह में वोटिंग कर सकती है. इस फ़ोर्स के निर्माण से वॉरसॉ स्थित फ्रंटेक्स बॉर्डर एजेंसी का विस्तार होगा.
•    दिसम्बर 2015 में ईयू नेताओं ने 30 जून 2016 तक नई फ़ोर्स गठित करने के लिए सीमा निर्धारित की थी.
•    शेंगेन के तहत विभिन्न देशों ने अपने बॉर्डर को पुनः निर्धारित किया ताकि अवैध प्रवास को रोका जा सके. वर्ष 2015 के आरंभ से अब तक 10 लाख से भी अधिक प्रवासी इन देशों में प्रवेश कर चुके हैं.
•    इस नए समझौते के तहत सदस्य देश अपने देशों की सीमाओं की पहले की भांति ही निगरानी करेंगे लेकिन आपातकालीन स्थिति में 1500 बॉर्डर सुरक्षाकर्मियों की सहायता ली जा सकती है.

Read More
Read Less
Share

कोलंबिया की सरकार और फार्क विद्रोहियों ने ऐतिहासिक दोतरफा युद्धविराम पर हस्ताक्षर किये

कोलंबिया की सरकार और फार्क विद्रोहियों ने 23 जून 2016 को ऐतिहासिक संघर्ष विराम समझौते पर हस्ताक्षर किये. 
•    क्यूबा में लगभग तीन वर्षों तक चली शांति वार्ता के बाद हुए इस संघर्ष विराम पर सहमति बनी.
•    इस सहमति ने 1960 के दशक में शुरू हुए गुर्रिल्ला युद्ध को पूरी तरह खत्म करने का मंच भी प्रदान किया है. 
•    दशकों से चला आ रहा यह संघर्ष कई वामपंथी विद्रोही समूह, दक्षिण पंथी अर्द्धसैन्य बल और नशीले पदार्थों से जुड़े गिरोहों के बीच रहा है.
•    आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, इस हिंसा में 2.6 लाख लोग मारे गए हैं, 45 हजार लोग लापता हैं और लगभग 70 लाख लोग विस्थापित हुए हैं.
•    कोलंबिया की सरकार और इन विद्रोहियों के बीच पिछले 50 साल से ज़्यादा लंबे वक्त से जंग चली आ रही है. 
•    सरकार और विद्रोहियों के बीच ये तय हुआ है कि फार्क शांति समझौते के छह महीने के भीतर हथियार छोड़ देगा.

Read More
Read Less
Share

ब्रिटेन यूरोपियन यूनियन से अलग हुआ

ब्रिटेन ने यूरोपीय संघ से स्वयं को अलग करने के लिए 23 जून 2016 को जनमत संग्रह आयोजित कराया. 
•    इसके नतीजे में 51.89 प्रतिशत मतदाताओं ने यूरोपियन संघ (ईयू) से बाहर होने के पक्ष में वोट दिया जबकि 48.11 प्रतिशत मतदाताओं ने यूरोपीय संघ में बने रहने के पक्ष में वोट दिया.
•    मतदान के परिणाम के अनुसार, पूर्वोत्तर इंग्लैंड, वेल्स और मिडलैंड्स में अधिकतर मतदाताओं ने यूरोपीय संघ से अलग होने के लिए वोट किया जबकि लंदन, स्कॉटलैंड और नॉर्दन आयरलैंड के ज्यादातर मतदाता यूरोपीय संघ के साथ ही रहना चाहते थे.
•    वर्ष 1975 में ब्रिटेन ने यूरोपियन इकोनॉमिक कम्यूनिटी का सदस्य बने रहने के लिए मतदान किया था. यह समूह बाद में यूरोपीय संघ बना. इस जनमत संग्रह का परिणाम ब्रिटेन सरकार के लिए कानूनी तौर पर बाध्यकारी नहीं है लेकिन प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने कहा कि जनता की इच्छा को स्वीकार किया जाएगा.
•    ब्रिटेन के इस निर्णय से ब्रिटेन की मुद्रा पाउंड में भारी गिरावट आई है. पाउंड में पिछले 31 सालों में ये सबसे बड़ी गिरावट है.
•    ब्रिटेन को यूरोपियन यूनियन के बजट के लिए 9 अरब डॉलर नहीं देने होंगे.
•    ब्रिटेन की सीमाओं पर बिना रोक-टोक के आवाजाही पर लगाम लगेगी.
•    फ्री वीज़ा पॉलिसी के कारण ब्रिटेन को हो रहा नुकसान भी कम होगा.
•    ब्रिटिश जीडीपी को 1 से 3 प्रतिशत नुकसान हो सकता है.
•    ब्रिटेन के लिए सिंगल मार्केट सिस्टम खत्म हो जाएगा.
•    दूसरे यूरोपीय देशों में ब्रिटेन को कारोबार से जुड़ी दिक्कतें होंगी.
•    पूरे यूरोपियन यूनियन पर ब्रिटेन का दबदबा खत्म हो जाएगा.
•    ब्रिटिश पाउंड में आई गिरावट के कारण अमेरिकी डॉलर की कीमत बढ़ेगी परिणामस्वरूप भारतीय रुपया कमज़ोर हो सकता है.
•    इससे भारत में तेल की कीमतें बढेंगी एवं पेट्रोल तथ डीज़ल के दाम बढ़ने से बाकी चीज़े भी महँगी हो जायेंगी.
•    इससे वे 800 भारतीय कम्पनियां प्रभावित होगीं जिन्हें यूरोपियन यूनियन को छोड़कर अमेरिकी डॉलर पर निर्भर होना पड़ेगा.
•    हालांकि इससे भारत को लाभ भी हुआ होगा जैसे भारत अब ब्रिटेन के साथ मुक्त व्यापार को बढ़ावा दे सकेगा. 
•    इस बीच आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन ने कहा कि विश्व के अन्य केन्द्रीय बैंकों की तुलना में भारतीय रुपया स्थिर रहेगा.

Read More
Read Less
Share

वर्जीनिया राजी रोम की पहली महिला मेयर बनीं

रोम में हुए स्थानीय चुनावों में 19 जून 2016 को वर्जीनिया राजी पहली महिला मेयर चुनी गयीं. रोम के पिछले 3000 वर्षों के इतिहास में वे पहली महिला मेयर हैं.
•    सरकार विरोधी आंदोलन 'फाइव स्टार मूवमेंट' की उम्मीदवार को रेंजी के सेंट्रल-लेफ्ट डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडी) के उम्मीदवार रॉबटरे गियाचेती के साथ कड़े मुकाबले में 60 प्रतिशत से अधिक वोट मिले.
•    पेशे से वकील 37 वर्षीय राजी वर्ष 2018 में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों के लिए कदम बढ़ा सकती हैं.
•    इस मूवमेंट की स्थापना कॉमेडियन बेप्पे ग्रिलो ने वर्ष 2009 में की थी.
•    मूवमेंट ने इटली की राजनीति में स्वयं एक बड़े विपक्षी बल की भूमिका के रूप में स्थामपित किया.
•    रोम के लोग सार्वजनिक परिवहन एवं अन्य सरकारी सेवाओं के कारण असंतुष्ट हैं जिसका लाभ राजी को मिला.

Read More
Read Less
Share

उत्तरी अमेरिका में पहली बार डॉल्फिन के लिए अभयारण्य आरंभ किया जायेगा

बाल्टिमोर राष्ट्रीय एक्वेरियम ने 15 जून 2016 को डॉल्फिन के लिए एक अभ्यारण्य बनाने की घोषणा की. यह उत्तरी अमेरिका में इन समुद्री स्तनधारियों के लिए पहला अभ्यारण्य होगा.
अटलांटिक बॉटलनोज़ डॉल्फिन के इस एक्वेरियम को वर्ष 2020 तक खुले समुद्र में स्थानांतरित कर दिया जायेगा. इन आठ डॉलफिनों में (छह मादा एवं दो नर) केवल एक ही अब तक खुले समुद्र में रहने की अनुभवी है. 
•    इस उद्देश्य की पूर्ति हेतु फ्लोरिडा एवं कैरिबियन पर स्थान की तलाश की जा रही है.
यह पूरी तरह संरक्षित स्थल होगा जहां इन जानवरों की प्रशिक्षित कर्मचारियों द्वारा देखभाल की जाएगी.
•    यह स्थल एक उष्णकटिबंधीय या उपोष्णकटिबंधीय स्थान पर स्थित होगा, यहां प्राकृतिक रूप से मछलियों, डॉल्फिन एवं समुद्री वनस्पति के लिए उपयुक्त स्थान होगा.
•    वर्षों से डॉल्फिन के व्यवहार पर हो रही रिसर्च एवं पशु अधिकार संगठनों के आह्वान पर राष्ट्रीय एक्वेरियम को अभ्यारण्य में तब्दील किया जा रहा है. 
•    पशु अधिकार संगठनों द्वारा डॉल्फिन को वर्षों तक एक ही सीमित स्थान पर रखने के पर एक्वेरियम की आलोचना की गयी.
•    यह आमतौर पर समुद्र में पाई जाने वाली डॉल्फिन हैं, इनका रंग हल्का ग्रे एवं काला होता है.
•    इनकी लम्बाई 6 फीट (1.8 मीटर) से 12 फीट (3.6 मीटर) तक हो सकती है तथा इसका वजन 1400 पाउंड (635 किलोग्राम) तक हो सकता है.
•    इन आठ डॉल्फिनों में से एक, 1972 में जन्मीं नैनी, केवल इकलौती ऐसी डॉल्फिन है जो खुले समुद्र में पैदा हुई.
•    इन डॉल्फिनों ने कभी खुले समुद्र में विचरण नहीं किया न ही वर्षा आदि का अनुभव लिया है.
•    इन डॉल्फिनों को समुद्र में जीवन व्यतीत करने के गुण सीखने होंगे. वर्तमान दौर में समुद्र में प्रदूषण, शोर, जेलीफिश एवं लाल टाइड का भी खतरा काफी बढ़ गया है.
उन्हें इस विशाल क्षेत्र में जीवनयापन करने का अनुभव महसूस करना होगा.

Read More
Read Less

All Rights Reserved Top Rankers