Current Affairs
Hindi
Share

किरण बेदी बनीं पुडुचेरी की उपराज्यपाल


 दिल्ली में बीजेपी की ओर से सीएम उम्मीदवार रहीं और सामाजिक कार्यकर्ता किरण बेदी को पुडुचेरी का उपराज्यपाल नियुक्त किया गया है।
•    राष्ट्रपति ने किरण बेदी को पुडुचेरी का उपराज्यपाल नियुक्त किया है।
•    दिल्ली चुनाव में बीजेपी की करारी हार के बाद किरण बेदी राजनीतिक सक्रियता से दूर थीं और बीजेपी किसी भी कार्यक्रम में कभी नजर नहीं आईं। 
•    इस चुनाव में बीजेपी को महज 3 सीटें ही मिली थीं और वह खुद भी चुनाव हार गई थीं। 
•    किरण बेदी 1972 बैच की आईपीएस अधिकारी रह चुकी हैं।
•    डॉ॰ किरण बेदी भारतीय पुलिस सेवा की प्रथम वरिष्ठ महिला अधिकारी थी। उन्होंने विभिन्न पदों पर रहते हुए अपनी कार्य-कुशलता का परिचय दिया है। 
•    वे संयुक्त आयुक्त पुलिस प्रशिक्षण तथा दिल्ली पुलिस स्पेशल आयुक्त (खुफिया) के पद पर कार्य कर चुकी हैं। 
•    इस समय वे संयुक्त राष्ट्र संघ के ‘शांति स्थापना ऑपरेशन’ विभाग में नागरिक पुलिस सलाहकार’ के पद पर कार्यरत हैं।
•    उन्हें वर्ष 2002 के लिए भारत की ‘सबसे प्रशंसित महिला’ चुना गया। द ट्रिब्यून के पाठकों ने उन्हें ‘वर्ष की सर्वश्रेष्ठ महिला’ चुना।

Read More
Read Less
Share

साई इंग वेन ताइवान की पहली महिला राष्ट्रपति बनी

ताइवान में डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (डीपीपी) की नेता साई इंग वेन ने मई 2016 में देश की पहली महिला राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली है.
•    साई ने इस साल जनवरी में हुये चुनाव में उन्होंने डीपीपी पार्टी को बड़ी जीत दिलाई थी. उन्हें अंतमुर्खी लेकिन, दृढ़ इच्छाशक्ति वाला नेता माना जाता है.
•    ताइवान में पिछले 70 साल में डीपीपी मात्र दूसरी बार सत्ता में आई है. कौमिंतांग दल का ही इस दौरान अधिकतर सत्ता पर कब्जा रहा है.
•    डीपीपी पारंपरिक रूप से चीन से आजादी की समर्थक रही है. चुनावों में पार्टी की जीत से चीन के साथ ताइवान के संबंध शिथिल पड़े हैं क्योकि चीन ताइवान को अपने ही प्रांत में गिनता है जो उससे अलग हो गया है.
•    साई चीन के साथ यथास्थिति बनाये रखने के पक्ष में हैं और ताइवान की मंद पड़ती अर्थव्यवस्था और चीन के साथ संबंध उनके सामने दो सबसे बड़ी चुनौतियाँ हैं.
•    वेन का जन्म 31 अगस्त 1956 को थाताइपे, ताइवान में हुआ.
•    इन्होंने नेशनल ताइवान यूनिवर्सिटी तथा लंदन के प्रतिष्ठित लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से शिक्षा प्राप्त की.
•    राजनीति में आने के पहले यह प्राध्यापक थीं.
•    वर्ष 2012 के चुनाव में यह डेमोक्रेटिक पार्टी से राष्ट्रपति की उम्मीदवार थीं लेकिन इसमें पराजित हो गयीं थीं. इसमें इन्हें 45 % ही वोट मिले थे.

Read More
Read Less
Share

राकेश कुमार मिश्रा सेंटर फॉर सेलुलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी के निदेशक के रूप में नियुक्त

राकेश कुमार मिश्रा को सेंटर फॉर सेलुलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी  के निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया . 
•    वो जीन की कार्यप्रणाली के अध्ययन में एक प्रख्यात विशेषज्ञ है,
•    वो वरिष्ठ वैज्ञानिक के रूप में 2001 में सीसीएमबी में शामिल हुए थे ।
•    इससे पहले वो आईआईएससी बंगलोर,यूनिवर्सिटी ऑफ़ बौर्डिओक्स, फ्रांस, संत लौइसे यूनिवर्सिटी, यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ़ अमेरिका और स्विट्ज़रलैंड में यूनिवर्सिटी ऑफ़ जिनेवा से भी जुड़े रहे .
•    सेंटर फॉर सेलुलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी एक वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद है जो हैदराबाद, भारत में स्थित है, हाँ अपने ख़ास रूप से संगठित कार्यप्रणाली के लिए जाना जाता है 
•    आन्ध्र प्रदेश की राजधानी, हैदराबाद में स्थित कोशिकीय व आण्विक जीवविज्ञान केंद्र (सी.सी.एम.बी.), सी एस आई आर की देश भर में फैली विविध प्रयोगशालाओं में से एक है। 
•    जीव-विज्ञान के आधुनिक और महत्वपूर्ण क्षेत्रों को पूर्णत: समर्पित यह प्रयोगशाला वर्ष 1987 में, 26 नवम्बर के दिन तत्कालीन प्रधान-मंत्री स्व. राजीव गांधी द्वारा राष्ट्र को समर्पित की गई थी।
•    इसे सी.एस.आई.आर की एक पूर्ण विकसित राष्ट्रीय प्रयोगशाला के रूप में वर्ष 1982 में ही मान्यता प्राप्त हो गयी थी। 

Read More
Read Less
Share

बेटी फिल्म को सीएटल इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में आमंत्रित किया गया

   गर्ल चाइल्ड एजुकेशन पर ये 4 मिनट की डाक्यूमेंट्री को 42 वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल के में आमंत्रित किया गया है 
•    फिल्म को बनाया है चंडीगढ़ के स्टूडेंट फिल्म मकर शिवेन अरोरा नेफिल्म में लड़की की पढ़ाई से जुडी बातें बताई गयी हैं जो सामाजिक  चीजें होती हैं  
•    चंडीगढ़ की तीन लड़कियों की कहानी, जिसे चंडीगढ़ के ही स्टूडेंट्स ने शूट किया। 
•    अब यह डॉक्यूमेंट्री देश की इकलौती फिल्म बन गई है, जिसे सीएटल इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल वॉशिंगटन में शॉर्ट फिल्म कैटेगरी में 30 मई को दिखाया जाएगा। ‘बेटी’ नामक की इस डॉक्यूमेंट्री को चंडीगढ़ के विभिन्न प्राइवेट स्कूलों के स्टूडेंट्स ने शूट किया और गवर्नमेंट स्कूल के स्टूडेंट्स ने इसमें एक्टिंग की।

•    यह फिल्म जिन पर फीचर की गई है, उसके कहानी व किरदार रील नहीं रियल हैं। इसकी घोषणा रविवार को प्रेस क्लब सेक्टर-27 में प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए की गई।
•    यंग फिल्म मेकर्स एकेडेमी की हेड श्वेता पारेख ने बताया कि फिलहाल पांच स्टूडेंट्स इस फेस्टिवल का हिस्सा बनेंगे। फिल्म फेस्टिवल को यह स्टूडेंट्स शूट भी करेंगे। 
•    बाद में फिल्म फेस्टिवल की भी फिल्म बनाई जाएगी।
•    फिल्म को बनाने से पहले इन स्टूडेंट्स ने फिल्म मेकिंग के गुर सीखे पर्पल पीपल्स लैब की यंग फिल्म मेकर्स एकेडेमी में। इसके बाद एकेडमी के बैनर तले फिल्म को शूट किया गया। 
•    डायरेक्शन, प्रोडक्शन जैसे हर पहलू के लिए 12 स्टूडेंट्स का क्रू था। सेंट कबीर स्कूल सेक्टर-26 और विवेक हाई स्कूल सेक्टर-38 के 12 स्टूडेंट्स ने मिलकर इसे शूट किया, जबकि गवर्नमेंट मॉडल स्कूल सेक्टर 27 की तीन स्टूडेंट्स ने इसमें एक्टिंग की।

Read More
Read Less
Share

त्रिपुरा उच्च न्यायालय में नए न्यायाधीश की नियुक्ति

गुवाहाटी उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति तिनलियानथांग वैफेई को सोमवार को त्रिपुरा उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में शपथ दिलाई गई। 
•    एक न्यायिक अधिकारी ने कहा कि केंद्रीय विधि एवं न्याय मंत्रालय भारत के मुख्य न्यायाधीश की सहमति के बाद इस हफ्ते एक औपचारिक अधिसूचना जारी करेगा, जिसके बाद न्यायमूर्ति वैफेई (60) संभवत: त्रिपुरा उच्च न्यायालय के प्रभारी मुख्य न्यायाधीश होंगे। 
•    त्रिपुरा के राज्यपाल तथागत राय ने राजभवन में आयोजित एक सादे समारोह में न्यायमूर्ति वैफेई को पद की शपथ दिलाई। इस अवसर पर मुख्यमंत्री माणिक सरकार, उनके मंत्रिमंडल के सदस्य, विभिन्न दलों के नेता एवं शीर्ष अधिकारी उपस्थित थे। 
•    न्यायमूर्ति वैफेई ने 1980 में मणिपुर में वकालत शुरू की थी। वह जुलाई 2003 में गुवाहाटी उच्च न्यायालय में दीपक कुमार गुप्ता की जगह अतिरिक्त न्यायाधीश बनाए गए थे। गुप्ता तब छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश नियुक्त हुए थे। 
•    त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय में वर्ष 2013 में अलग उच्च न्यायालय बना। पहले ये तीनों राज्य गुवाहाटी उच्च न्यायालय के अधिकार क्षेत्र में आते थे। पहले पूर्वोत्तर के सभी राज्यों के लिए गुवाहाटी उच्च न्यायालय ही था।

Read More
Read Less
Share

पांच भारतीय मरणोपरांत संयुक्त राष्ट्र के डैग ह्मर्सकोल्ड पदक हेतु चयनित

संयुक्त राष्ट्र ने मई 2016 के तीसरे सप्ताह में भारतीय शांतिदूतों एवं नागरिकों सहित 124 लोगों को प्रतिष्ठित संयुक्त राष्ट्र पदक के लिए चयनित किया.
हेड कांस्टेबल शुभकरण यादव, राइफलमैन मनीष मलिक, हवलदार अमल डेका, नायक राकेश कुमार एवं गगन पंजाबी को मरणोपरांत डैग ह्मर्सकोल्ड पदक से सम्मानित किया गया.   
•    इन 124 लोगों को अंतरराष्ट्रीय संयुक्त राष्ट्र शांतिदूत दिवस पर सम्मानित किया जायेगा. 
•    हेड कांस्टेबल शुभकरण यादव कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य (MONUSCO) में संयुक्त राष्ट्र के स्थिरीकरण मिशन में कार्यरत थे.
•    उन्होंने अप्रैल 2015 को बलिदान दिया.
•    मनीष मलिक भी कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में संयुक्त राष्ट्र के स्थिरीकरण मिशन में कार्यरत थे.
•    वे अगस्त 2015 को मिशन के दौरान शहीद हुए.
•    हवलदार अमल डेका संयुक्त राष्ट्र मुक्ति पर्यवेक्षक सेना में कार्यरत थे.
•    उनका निधन जून 2015 को हुआ.
•    नायक राकेश कुमार दक्षिणी सूडान में संयुक्त राष्ट्र मिशन पर कार्यरत थे.
•    उनका निधन जनवरी 2015 को हुआ.
•    गगन पंजाबी संयुक्त राष्ट्र के स्वयंसेवक कार्यक्रम के तहत एक नागरिक की हैसियत से MONUSCO में सेवारत थे एवं जनवरी 2015 में एक हादसे में उनका निधन हो गया.
•    डैग ह्मर्सकोल्ड पदक संयुक्त राष्ट्र द्वारा उन लोगों को मरणोपरांत दिया जाता है जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हो.

Read More
Read Less
Share

प्रदीप राव भारत के उप नियन्त्रक एवं महालेखापरीक्षक नियुक्त

ऑडिट सेवा के वरिष्ठ अधिकारी हिंदूपुर प्रदीप राव को शुक्रवार को उप नियंत्रक व महालेखा परीक्षक (कैग) नियुक्त किया गया।

•    राव भारतीय अंकेक्षण व लेखा सेवा के 1981 बैच के अधिकारी हैं। 
•    वे इस समय अतिरिक्त कैग के रूप में काम कर रहे हैं।
•    कार्मिक व प्रशिक्षण विभाग द्वारा जारी एक आदेश के अनुसार मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने राव को एक जुलाई 2016 से डिप्टी कैग नियुक्त करने को मंजूरी दी है। 
•    कैग देश का शीर्ष अंकेक्षण निकाय है। 
•    कैग के सामने जो कागजात रखे जाते हैं उसमें जो वर्णन होता है उसमें सही प्रक्रिया अपनाई गई या नहीं अपनाई गई यह पता चलता है।
•    कैग बजट की छानबीन भी करता है खासकर राजस्व की.
•    कैग की रिपोर्ट तकनीकी और आर्थिक पैरामीटर के आधार पर रिपोर्ट तैयार करती है। 

Read More
Read Less
Share

परमाणु निशस्त्रीकरण पर जागृति फैलाने के लिए आयोजित पोस्टर प्रतियोगिता में संयुक्त राष्ट्र ने 22 साल की एक भारतीय कलाकार समेत तीन कलाकारों को पुरस्कृत किया है।
•    संयुक्त राष्ट्र निशस्त्रीकरण कार्यालय :ओडीए: ने न्यूयार्क आधारित डिजाइनर एवं ‘आर्टिविस्ट’ अंजलि चंद्रशेखर को ‘शांति के लिए संयुक्त राष्ट्र पोस्टर’ प्रतियोगिता में तीसरे पुरस्कार से नवाजा।
•    ‘शांति से अवरोधों को काटना’ शीषर्क वाले अंजलि के पोस्टर में शांति के फाख्ता को एक परमाणु हथियार कुतरते हुए दिखाया गया है।
•    संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून ने तीन मई को तीसरे पुरस्कार का सर्टिफिकेट सौंपा। 
•    इस प्रतियोगिता में 123 देशों से 4100 प्रविष्टियां शामिल की गईं थी जिनमें से तीन विजेताओं के अतिरिक्त नौ ‘सम्मानजनक चर्चा’ चुनी गईं।
•    पहला पुरस्कार पेरू के 38 साल के आइवान सिरो पलोमिनो हुआमानी के पोस्टर ‘स्पिन्निंग पीस’ को मिला। 
•    दूसरा पुरस्कार 15 साल की मिशेल ली के पोस्टर ‘पीस इन आवर हैंड्स’ को मिला है। 

Read More
Read Less
Share

सेलिना जेटली हार्वे मिल्क फाउंडेशन पदक से सम्मानित

बॉलीवुड स्टार और अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार कार्यकर्ता, सेलिना जेटली, को द्वितीय वार्षिक  डाइवर्सिटी ऑनर्स में हार्वे मिल्क फाउंडेशन का लीला वॉटसन ग्लोबल चैम्पियन मेडल दिया गया । 
•    इसकी शुरुआत सेमिनाल हार्डराक होटल एवं कसीनो फ्लोरिडा में शुक्रवार 13 मई को संध्या सात बजे हुई। 
•    डाइवर्सिटी ऑनर्स का ये कार्यक्रम विश्व हार्वे मिल्क दिवस के उत्सव कें साथ मनाया जाता है । 
•    केलिफोर्निआ में यह दिन राजकीय अवकाश के रूप में मनाया जाता है तथा इस दिन को दूध को आशा और वीरता के पर्याय के रूप में महत्व दिया जाता है।
•    
सेलिना जेटली को भारत में एलजीबीटी अधिकार आंदोलन के लिए उन की वकालत और समर्थन के लिए सम्मानित किया गया। 
•    जेटली संयुक्त राष्ट्र स्वतंत्रता और समानता अभियान की आधिकारिक चैम्पियन हैं और कई पुरस्कार विजेता बॉलीवुड फिल्मों और अन्य सिनेमाई प्रस्तुतियों में अभिनय करने वाली एक अत्यधिक प्रशंसित भारतीय अभिनेत्री हैं। 
•    पूर्व मिस इंडिया विजेता और मिस यूनिवर्स उपविजेता, वह दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में समलैंगिक संबंधों के अपराधीकरण के खिलाफ सबसे सक्रिय हिमायतियों में से एक हैं। 

Read More
Read Less
Share

जस्टिस मुकुल मुदगल फीफा संचालन समिति के उपाध्यक्ष नियुक्त

अंतरराष्ट्रीय फुटबाल महासंघ (फीफा) ने आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग की जांच करने वाले जस्टिस मुकुल मुदगल को 14 मई 2016 को अपनी संचालन समिति का उपाध्यक्ष नियुक्त किया.
•    यूरोपीय कोर्ट ऑफ़ जस्टिस (ECJ) के अधिवक्ता जनरल  लुइस मिगुएल मादुरो (पुर्तगाल) को फीफा संचालन समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया गया.
•    इसके अलावा जस्टिस मुदगल और लुइस मिगुएल मादुरो को फीफा के इंडिपेंडेंट रिव्यु समिति का अध्यक्ष भी नियुक्त निया गया.
•    मुदगल पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायधीश है और आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग जांच समिति के अध्यक्ष रह चके है.
•    जस्टिस मुदगल फिरोजशाह कोटला मैदान में अंतरराष्ट्रीय मैचों और आईपीएल के मैचों की देखरेख में शामिल थे.
•    एशियाई फुटबाल महासंघ (एएफसी) ने हाल ही में उन्हें इसी काम के लिए अपनी टीम में शामिल किया था.
•    उनके नियुक्ति की घोषणा मेक्सिको सिटी में आयोजित 66वें वार्षिक फीफा कांग्रेस के दौरान की गयी.

Read More
Read Less

All Rights Reserved Top Rankers