Current Affairs
Hindi
Share

एनी हैथवे बनीं संयुक्त राष्ट्र की सद्भावना दूत

लैंगिकता समानता और महिला सशक्तीकरण के लिए काम करने वाली संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी ने ऑस्कर पुरस्कार विजेता अभिनेत्री एनी हैथवे को वैश्विक सद्भावना दूत नियुक्त किया है। 
•    ‘यूएन वूमन’ की कार्यकारी निदेशक फुमजिले मलामबो नगकुका ने पुरस्कार के बाद एनी को महिला एवं बालिकाओं के अधिकारों की बड़ी समर्थक बताया।
•    ” एनी पहले भी महिला अधिकारों को लेकर सशक्त रुप से काम कर चुकी हैं। 
•    33 वर्षीय एनी ने पुरस्कार मिलने के बाद कहा “मैं लैंगिक समानता की दिशा में काम करने में मदद के इस अवसर से बहुत ही सम्मानित एवं प्रेरित महसूस कर रही हूं।” 
•    वह महिला सद्भावाना दूत के मामले में निकोल किडमैन और एमा वाटसन जैसी अभिनेत्रियों की सूची में शुमार हो गई हैं।
•    वो एक जानी मानी हॉलीवुड की कलाकार हैं 
 

Read More
Read Less
Share

फिजी के पीटर थॉमसन संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष निर्वाचित

संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) द्वारा 13 जून 2016 को फिजी के पीटर थॉमसन को 71वें अधिवेशन के लिए अध्यक्ष निर्वाचित किया गया. 
उन्होंने सायप्रस के एंड्रियास मैव्रोयिआनिस को 90 के मुकाबले 94 वोटों से हराया. वे महासभा के वर्तमान अध्यक्ष मोगेंस लायक़तोफ्ट के स्थान पर निर्वाचित होंगे.
थॉमसन 71वीं सभा के लिए सितम्बर 2016 से कार्यकाल आरम्भ करेंगे.
•    वे फिजी के राजनीतिज्ञ एवं कूटनीतिज्ञ हैं.
•    वे फरवरी 2010 से संयुक्त राष्ट्र में फिजी के स्थायी प्रतिनिधि के रूप में कार्यरत हैं.
•    उन्हें 2014 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के कार्यकारी बोर्ड, संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष एवं संयुक्त राष्ट्र परियोजना सर्विसेज कार्यालय का अध्यक्ष चुना गया.
•    उनके प्रयासों द्वारा ही यूएन ग्रुप ऑफ़ एशियन स्टेट्स का नाम परिवर्तित करके एशिया-पसिफ़िक ग्रुप रखा गया.
•    उन्हें 2014 में फिजी के राष्ट्रपति द्वारा ऑफिसर ऑफ़ द आर्डर ऑफ़ फिजी द्वारा सम्मानित किया गया.
•    यह संयुक्त राष्ट्र के छह मुख्य अंगों में से एक है.
•    इसमें सभी सदस्यों को एकसमान प्रतिनिधित्व प्रदान किया गया है.
•    इसकी शक्तियों में संयुक्त राष्ट्र का बजट, अस्थाई सदस्यों की सुरक्षा परिषद में नियुक्ति, संयुक्त राष्ट्र के अन्य भागों से रिपोर्ट प्राप्त करना एवं महासभा प्रस्ताव के लिए सिफारिश रखना शामिल हैं.
•    प्रतिवर्ष महासभा का आयोजन अध्यक्ष अथवा महासचिव के अधीन किया जाता है.
•    महासभा का पहला आयोजन 10 जनवरी 1946 को किया गया जिसमें 51 देशों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया था.

Read More
Read Less
Share

जस्टिस राकेश रंजन प्रसाद मणिपुर उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश नियुक्त

मणिपुर उच्च न्यायालय के वरिष्ठ जज जस्टिस राकेश रंजन प्रसाद ने 13 जून 2016 को मणिपुर उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश का पदभार ग्रहण किया.
•    उन्होंने जस्टिस लक्ष्मी कांता महापात्रा का स्थान लिया, वे 9 जून 2016 को सेवानिवृत हुई थीं.
•    इससे पहले 9 फरवरी 2016 को जस्टिस प्रसाद का झारखंड उच्च न्यायालय से मणिपुर उच्च न्यायालय में ट्रांसफर हुआ था. राष्ट्रपति द्वारा अनुच्छेद 222 की धारा (1) के तहत उनका ट्रांसफर किया गया.
•    इस धारा के अनुसार, राष्ट्रपति एक न्यायाधीश को एक उच्च न्यायालय से दूसरे न्यायालय में स्थानांतरित कर सकता है. 
•    उनका जन्म 1 जुलाई 1955 में हुआ, उनका अपनी प्रारंभिक शिक्षा एवं स्नातक डिग्री बिहार से हासिल की.
•    उन्होंने विज्ञान विषय में स्नातक किया तथा पटना लॉ कॉलेज से एलएलबी डिग्री हासिल की.
•    बिहार राज्य बार काउंसिल में उन्हें 17 सितम्बर 1980 को वकील के रूप में शामिल किया गया. उन्होंने सिविल, क्रिमिनल एवं याचिका क्षेत्रों में प्रैक्टिस की.
•    उन्हें 6 मई 1991 को अतिरिक्त जिला न्यायाधीश पद दिया गया तथा इसके बाद उन्हें 8 जून 2001 को जिला न्यायाधीश बनाया गया.
•    उन्होंने 8 जून 2001 को झारखंड उच्च न्यायालय में बतौर रजिस्ट्रार जनरल पदभार ग्रहण किया.

Read More
Read Less
Share

सत्यपाल जैन विधि आयोग के सदस्य बने

अपर महा सालिसिटर एवं चंडीगढ़ के पूर्व सांसद सत्य पाल जैन को भारत के 21 वें विधि आयोग का अंशकालिक (पार्ट-टाईम) सदस्य नियुक्त किया गया है।
•    देश के राष्ट्रपति ने गत वर्ष 14 सितम्बर, 2015 को इस आयोग का गठन किया था। 
•    सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत न्यायाधीश न्यायमूर्ति डॉ. बीएस चौहान इसके अध्यक्ष हैं।
•    इसके अन्य मनोनीत सदस्यों में गुजरात उच्च न्यायालय के सेवानिवृत न्यायाधीश न्यायमूर्ति रवि आर त्रिपाठी, जीएनएलयू के निर्देशक डॉ. बिमल पटेल व सत्य पाल जैन शामिल है।
•    भारत सरकार के कानून एवं न्याय मंत्रालय के सचिव, विधि कार्य विभाग एवं सचिव, विधायी विभाग इस आयोग के पदेन सदस्य के रूप में काम करते हैं।
•    जैन ने कल दिल्ली में लॉ कमीशन के कार्यालय में जाकर अपना पद ग्रहण किया और उसके बाद आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति डॉ. बीएस चौहान से भेंट करके लगभग एक घंटा आयोग के समक्ष लंबित मुद्दों पर चर्चा की।
•    इस आयोग का गठन केन्द्र सरकार ने देश भर में न्यायिक सुधारों के संबंध में तथा अर्थहीन हो चुके कानूनों को निरस्त करने संबंधी विषयों पर अध्ययन करके भारत सरकार को अपने विस्तृत सुझाव देने के लिए किया है।
•    जैन एक जाने-माने संविधान विशेषज्ञ हैं। वे लम्बे अरसे से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ एवं भारतीय जनता पार्टी से जुड़े हैं।
•    वह लगभग 40 वर्षों से पंजाब विश्वविद्यालय की सीनेट के सदस्य है तथा लॉ फैकल्टी के कई वर्षों तक डीन भी रह चुके है।
•    जैन देश के कई महत्वपूर्ण मुद्दों में, जैसे विधान आयोग, लिब्रहान आयोग, राष्ट्रपति चुनाव याचिका, अरुणाचल में राष्ट्रपति शासन तथा देश के कई जाने माने नेताओं की विभिन्न केसों में पैरवी कर चुके हैं।

Read More
Read Less
Share

वैद्यलिंगम निर्विरोध पुडुचेरी विधानसभा के अध्यक्ष निर्वाचित

वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री वी वैद्यलिंगम पुडुचेरी विधानसभा के नए अध्यक्ष बने 
•    आखिरी समय सीमा आज अपराह्न तक पर्चा भरने वाले वह ही एकमात्र उम्मीदवार थे।
•    वैद्यलिंगम विधानसभा सचिव एस मोहनदास के सामने अपना नामांकन भरने वाले एक मात्र उम्मीदवार हैं। 
•    अस्थायी अध्यक्ष वी पी सिवकोलुंढू ने वैद्यलिंगम के नयी विधानसभा के अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित होने की विधिवत घोषणा की.
•    वैद्यलिंगम विधानसभा के 19 वें अध्यक्ष हैं । 
•    वह 16 मई को विधानसभा चुनाव में कामराज नगर निर्वाचन क्षेत्र से लगातार दूसरी बार विधानसभा के लिए चुने गए थे।
•    वह 1985 में अपने पहले निर्वाचन के बाद से नेट्टापक्कम निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते रहे थे। 
•    लेकिन 2011 में वह कामराज नगर विधानसभा से चुनाव लड़े।
•    विधानसभा क्षेत्रों के पुनर्सीमांकन के बाद 2011 के चुनाव में नेट्टापक्कम आरक्षित सीट बन गयी।
•    वैद्यलिंग दो बार मुख्यमंत्री रहे। 
•    वह 1991-96 तक इस पद रहे तथा वर्ष 2008 में उन्होंने बतौर मुख्यमंत्री रंगासामी का स्थान लिया। 
•    वह पिछली विधानसभा में विपक्ष के नेता थे। 

Read More
Read Less
Share

जी कल्याण कृष्णन ने परमाणु ईंधन परिसर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में पदभार ग्रहण किया

विशिष्ट वैज्ञानिक जी कल्याण कृष्णन ने परमाणु ईंधन परिसर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में पदभार ग्रहण किया.
•    जी कल्याण कृष्णन ने एन साईबाबा का स्थान ग्रहण किया. एन साईबाबा अपनी दो वर्ष की विस्तारित अवधि की समाप्ति पर सेवानिवृत्त हुए.
•    जी कल्याण कृष्णन एनएफसी बोर्ड के अध्यक्ष भी होंगें.
•    एनएफसी के मुख्य कार्यकारी के रूप में नियुक्त किये जाने से पूर्व जी कल्याण कृष्णन एनएफसी के उप मुख्य कार्यकारी के रूप में सेवा रत थे.
•    उनके पास भारी जल संयंत्रों के निर्माण और कमीशन में आपरेशन का व्यापक अनुभव है.
•    रीजनल इंजीनियरिंग कॉलेज वारंगल से 1980 में उन्होंने केमिकल इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की थी.
•    वे 1980-1981 में भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र के ट्रेनिंग स्कूल (बीएआरसी),मुंबई के 24 वें बैच में शामिल हुए थे.
•    परमाणु ईंधन परिसर की स्थापना 1971 में की गयी थी.
•    इसकी स्थापना परमाणु ईंधन बंडलों और रिएक्टर कोर घटकों की आपूर्ति के लिए भारत के परमाणु ऊर्जा विभाग के एक प्रमुख औद्योगिक इकाई के रूप में की गयी थी.
•    यह एक अनोखी सुविधा है जहां प्राकृतिक और संवर्धित यूरेनियम ईंधन, जिर्कोनियम तथा मिश्र धातु आवरण (रिएक्टर मुख्य घटक) एक ही छत के अंतर्गत निर्मित किया जाता है.
•    एनएफसी यूरेनियम ऑक्साइड ईंधन और जिर्कोनियम मिश्र धातु संरचनात्मक घटकों की आपूर्ति भारत के 14 परमाणु ऊर्जा रिएक्टरों को करता है
•    हैदराबाद संयंत्र की क्षमता प्रति वर्ष 250 टन UO2 उत्पादन करने की है और प्रति वर्ष इसे बढ़ाकर 600 टन करने की उम्मीद है.
एनएफसी के उत्पादों की आपूर्ति परमाणु ऊर्जा, भारतीय नौसेना, हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड और अन्य रक्षा संगठनों को की जाती है.

Read More
Read Less
Share

रियो ओलंपिक में भारत के ध्वजवाहक होंगे अभिनव बिंद्रा

ओलंपिक चैम्पियन निशानेबाज अभिनव बिंद्रा को पांच अगस्त को होने वाले रियो खेलों के उद्घाटन समारोह के लिए शुक्रवार (10 जून) को भारतीय दल का ध्वजवाहक चुना गया। 
•    भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने पुष्टि की कि उन्होंने 2008 बीजिंग ओलंपिक के स्वर्ण पदक विजेता बिंद्रा को खेलों के महाकुंभ में देश का ध्वजवाहक चुना है। 
•    बिंद्रा इस साल अपने पांचवें ओलंपिक में हिस्सा लेंगे। 
•    स्टार मुक्केबाज विजेंदर सिंह, महान टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस और स्टार पहलवान सुशील कुमार के साथ 2012 लंदन खेलों से पहले ध्वजवाहक के लिए बिंद्रा के नाम पर भी विचार किया गया था लेकिन आईओए ने यह सम्मान दो बार के ओलंपिक पदक विजेता पहलवान को दिया। 
•    बिंद्रा ओलंपिक में व्यक्तिगत स्पर्धाओं में भारत के एकमात्र स्वर्ण पदक विजेता हैं। 
•    बिंद्रा ने 2008 बीजिंग ओलंपिक खेलों की 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतकर यह उपलब्धि हासिल की थी। 
•    वो अंतरराष्ट्रीय निशानेबाजी खेल महासंघ (आईएसएसएफ) के कार्यकारी बोर्ड में भी शामिल है। •    बिंद्रा इसके अलावा रियो खेलों में भारतीय दल के सद्भावना दूत भी हैं। 

Read More
Read Less
Share

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून रूस के “ऑर्डर ऑफ फ्रेंडशिप” सम्मान से सम्मानित

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने 8 जून 2016 को संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की-मून को “ऑर्डर ऑफ फ्रेंडशिप” सम्मान से सम्मानित किया.
•    बान को यह सम्मान शांति, दोस्ती, सहयोग और आपसी समझ को मजबूत बनाने में विशेष गुण के लिए सम्मानित किया गया.
•    बान की-मून संयुक्त राष्ट्र के आठवें और वर्तमान महासचिव हैं.
•    महासचिव बनने से पहले वे दक्षिण कोरिया के विदेश मामलों के मंत्रालय में एक कैरियर राजनयिक थे.
•    बान ने लोक प्रशासन में मास्टर की उपाधी हार्वर्ड विश्वविद्यालय में जॉन एफ कैनेडी सरकारी स्कूल से प्राप्त की.
•    वे जनवरी 2004 से नवम्बर 2006 तक कोरिया गणराज्य के विदेश मंत्री रहे.
•    वे 13 अक्टूबर 2006 को संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा आठवें महासचिव चुने गए.
•    बान की मून संयुक्त राष्ट्र के आठवें और वर्तमान महासचिव हैं। महासचिव बनने से पहले वे दक्षिण कोरिया के विदेश मामलों के मंत्रालय में एक कैरियर राजनयिक थे। 
•    वे जनवरी 2004 से नवम्बर 2006 तक कोरिया गणराज्य के विदेश मंत्री रहे। 
•    13 अक्टूबर 2006 को वे संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा आठवें महासचिव चुने गए।

Read More
Read Less
Share

स्वीडन के मेजर जनरल यूएनएमओजीआईपी प्रमुख नियुक्त

संयुक्त राष्ट्र (यूएन) महासचिव बान की-मून ने स्वीडन के मेजर जनरल पेर लोडिन को यूएन मिल्ट्री ऑब्जर्वर ग्रुप इन इंडिया एंड पाकिस्तान (यूएनएमओजीआईपी) का प्रमुख नियुक्त किया है।
•    यूएनएमओजीआईपी कश्मीर के हालात पर नजर रखता है। भारत हालांकि इसके अधिकार क्षेत्र को नहीं मानता है।
•    बान की-मून के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने बुधवार को कहा कि लोडिन एक सैन्यतंत्र विशेषज्ञ हैं। वह घाना के मेजर जनरल देलाली जॉनसन सकई की जगह ले रहे हैं, जिनकी नियुक्ति के दो साल जुलाई में पूरे हो रहे हैं।
•    लोडिन वर्तमान में स्वीडन के रक्षा मंत्रालय की खरीद एवं रसद शाखा एफएमवी के प्रमुख हैं।
•    वह पूर्व में 2006-2007 में नाटो की अगुवाई वाले बहुदेशीय शांति मिशन कोसोवो फोर्स (केएफओआर) के कार्यबल केंद्र के प्रमुख रह चुके हैं।
•    यूएनएमओजीआईपी का संचालन 1949 में शुरू हुआ, जिसमें 44 सैन्य सदस्य एवं 72 नागरिक स्टाफ सहित 10 देशों के कर्मचारी शामिल हैं।
•    भारत अपने इस रुख पर कायम है कि यूएनएमओजीआईपी भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो के बीच 1972 को हुए उस शिमला समझौते से असंगत या अप्रासंगिक हो गया है, जो कश्मीर विवाद को एक द्विपक्षीय मुद्दा मानता है। 
•    दूसरी ओर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने यूएन मिल्ट्री ऑब्जर्वर ग्रुप इन इंडिया एंड पाकिस्तान के विस्तार की मांग की है और पाकिस्तान इसके समक्ष भारत की ओर से होने वाले कथित संघर्षविराम की शिकायतें करता रहता है।
•    भारत ने 2014 में यूएनएमओजीआईपी को सरकारी इमारत खाली करने के लिए कहा था।

Read More
Read Less
Share

पेड्रो पाब्लो कुक्ज़िन्सकी ने पेरू का राष्ट्रपति चुनाव जीता

पेड्रो पाब्लो कुक्ज़िन्सकी ने अपने प्रतिद्वंदी केईको फुजीमोरी को हराकर पेरू के राष्ट्रपति का चुनाव जीता. 
•    चुनावी प्रक्रिया के राष्ट्रीय कार्यालय ने 9 जून 2016 को यह घोषणा की कि पेरू के राजनैतिक संगठन पेरुआनोस पोर एल कम्बियो को 50.12 प्रतिशत वोटिंग के साथ बहुमत प्राप्त हुआ.
•    फुजीमोरी को 8539036 एवं पेड्रो पाब्लो को 8580474 मत प्राप्त हुए. 
•    उन्हें पीपीके के नाम से भी जाना जाता है, वे पेरू के जाने माने अर्थशास्त्री, राजनेता एवं स्थानीय प्रशासक हैं.
•    वे 2005 से 2006 तक पेरू के प्रधानमंत्री रह चुके हैं.
•    राजनीति में प्रवेश से पहले वे संयुक्त राज्य अमेरिका में कार्यरत थे. 
•    उन्होंने विश्व बैंक एवं अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष में भी कार्य किया है. 
•    वे पेरू के सेंट्रल रिज़र्व बैंक के जनरल मेनेजर भी रह चुके हैं.
•    वे 1980 के शुरुआत में राष्ट्रपति फ़र्नांडो टेरी की सरकार में ऊर्जा और खान मंत्री भी रह चुके हैं.
•    वे वर्ष 2000 में वित्त मंत्री भी रह चुके हैं.
•    वे वर्ष 2011 में भी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार थे.

Read More
Read Less

All Rights Reserved Top Rankers