toprankers
Exams
Blog
Plans
Plans
Current Affairs
Hindi
Share

इंटरनेशनल सोलर एलायंस और विश्व बैंक ने सौर ऊर्जा कार्यक्रम में सहयोग हेतु हस्ताक्षर किए

विश्व बैंक समूह ने भारत की अगुवाई वाले 121 देशों के इंटरनेशनल सोलर एलायंस (आईएसए सेल) के साथ 30 जून 2016 को सौर ऊर्जा कार्यक्रम में सहयोग औए उसे बढ़ावा देने सम्बन्धी समझौते पर हस्ताक्षर किए.
•    समझौते पर हस्ताक्षर विश्व बैंक समूह के अध्यक्ष जिम यंग किम के जून 2016 में भारत के समय किए गए.
•    समझौते का उद्देश्य वर्ष 2030 तक दस खरब डॉलर का निवेश जुटाना है.
•    नई दिल्ली में समझौते पर वित्त् मंत्री अरूण जेटली और ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल की उपस्थिति में सौर ऊर्जा कार्यक्रम सचिव और आईएसए सेल के अध्यक्ष उपेन्द्र त्रिपाठी और भारत में विश्व बैंक के निदेशक ओनो रूहल के मध्य हस्ताक्षर किये गए.
•    वित्तपोषण जुटाने के लिए एक रोडमैप का विकास
•    क्रेडिट वृद्धि सहित वित्तीय साधनों का विकास, हेजिंग लागत/ मुद्रा जोखिम को कम करने, सौर ऊर्जा विकास को समर्थन जुटाने हेतु स्थानीय स्तर पर प्रचलित मुद्राओं के विकास में मदद करना.
•    तकनीकी सहायता और ज्ञान हस्तांतरण के माध्यम से सौर ऊर्जा के लिए आईएसए की योजना का समर्थन
•    मौजूदा या नए ट्रस्ट फंड के माध्यम से रियायती वित्तपोषण को एकत्रित करने पर कार्य करना
•    बैंक ने भारत के सौर ऊर्जा कार्यक्रम में सहयोग के लिए एक अरब डॉलर से अधिक की सहायता देने की घोषणा की है.
•    भारत में विश्व बैंक समर्थित जिन योजनाओं की तैयारी चल रही है उनमें छतों पर लगायी जाने वाली सौर ऊर्जा प्रौद्योगिकी, सौर पार्कों के लिए बुनियादी ढॉचा, बाजार में नवाचारी और संकर प्रौद्योगिकियों को बढ़ावा देना
•    सौर ऊर्जा सम्पन्न राज्यों के लिए पारेषण लाइनों से जुड़ी परियोजनाएं शामिल हैं.
•    विश्व बैंक समूह के अध्यक्ष जिम यंग किम के अनुसार बैंक ने ग्रिड से जुड़े छत के ऊपर वाले सौर ऊर्जा कार्यक्रम के लिए भारत के साथ 62 करोड़ पचास लाख डॉलर का समझौता किया है. 
•    इससे संयुक्त घोषणा सौर ऊर्जा के लिए वित्त की लामबंदी तेज करने में मदद मिलेगी.
•    वर्ष 2030 तक सस्ती सौर ऊर्जा की आवश्यकता हेतु 1000 से अधिक अमेरिकी बिलियन डॉलर जुटाने में विश्व बैंक प्रमुख प्रभावी भूमिका निभा सकता है.

Read More
Read Less
Share

केंद्रीय रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने “निवारण” पोर्टल का शुभारंभ किया

रेल भवन में आयोजित एक कार्यक्रम में केंद्रीय रेल मंत्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने 30 जून 2016 को  औपचारिक रूप से निवारण पोर्टल का शुभारंभ किया.
•    ये पोर्टल सेवारत कर्मचारियों और पूर्व रेल कर्मचारियों की सेवा संबंधी शिकायतों के समाधान के लिए एक ऑनलाइन प्रणाली है. यह एक वाह्य शिकायत निवारण पोर्टल है.
•    ये ऑनलाइन प्रणाली कर्मचारियों को अपनी शिकायतों को दर्ज कराने के लिए और उनकी प्रगति पर नजर रखने की भी सुविधा देती है.
•    ये प्रणाली शिकायत के मामले में निर्णय संतोषजनक नहीं पाए जाने पर उच्च अधिकारी को अपील के लिए सुविधा भी प्रदान करेगी.
•    इस प्रणाली में शीर्ष नियंत्रक प्राधिकरण भी क्षेत्रीय कार्यालयों द्वारा भेजी गई शिकायत निवारण की प्रगति की निगरानी करने में सक्षम हो जाएगा.
•    ये एप्लीकेशन भारतीय रेलवे की आईटी शाखा सीआरआईएस द्वारा विकसित की गई है.
•    रेलवे बोर्ड के स्थापना निदेशालय द्वारा ये एप्लीकेशन डिजाईन की गई है.
•    ये निदेशालय कर्मचारियों के मामलों, कम्प्यूटरीकरण तकनीकी मार्गदर्शन और सूचना प्रणाली प्रबंधन करता है.

Read More
Read Less
Share

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी ने 30 जून 2016 को विज्ञान भवन,नई दिल्ली में अध्यापक शिक्षा पोर्टल "प्रशिक्षक" का शुभारंभ किया.
"प्रशिक्षक" को जिला शिक्षण और प्रशिक्षण संस्थान (डीआईईटी) को सशक्त करने और देश की शिक्षा प्रणाली में श्रेष्ठ अध्यापक प्रदान करने के उद्देश्य से प्रारंभ किया गया है.
•    प्रशिक्षक का शुभारंभ सिर्फ डीआईईटी के लिए किया गया है लेकिन यह भविष्य में खंड स्तर की संस्थाओं में भी लागू होगा और शिक्षा प्रणाली में जड़ से कमियों की पहचान करेगा.
•    प्रशिक्षिक की स्थापना मानव संसाधन विकास मंत्रालय और सेंट्रल स्कावर फाउंडेशन द्वारा संयुक्त गठबंधन के रूप में की गई है.
•    प्रशिक्षिक का उद्देश्य डीआईईटी में गुणवत्ता मानकों की स्थापना करना है.
•    डीआईईटी को अपने संस्थान के बारे में उचित निर्णय लेने में सहायता करना है.
•    डीआईईटी को राज्य और देश के दूसरे डीआईईटी की क्षमता से तुलना करने के साथ-साथ अध्यापक बनने के इच्छुक युवाओं को निर्णय लेने में सहायता करना है.

Read More
Read Less
Share

स्वदेश निर्मित लड़ाकू विमान तेजस भारतीय वायु सेना में शामिल

स्वदेश में निर्मित हल्के लड़ाकू विमान (एलसीए) तेजस को 1 जुलाई 2016 को भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया. वायुसेना में दो तेजस विमानों को शामिल करके पहले स्क्वॉड्रन का गठन किया गया. दक्षिणी वायु कमान के एयर ऑफिसर कमांडिंग-इन चीफ एयर मार्शल जसबीर वालिया की मौजूदगी में एयरक्राफ्ट सिस्टम टेस्टिंग एस्टेबलिशमेंट (एएसटीई) में एलसीए स्क्वाड्रन को शामिल किया गया.
•    इन विमानों का निर्माण हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा किया गया. पहले स्क्वॉड्रन का नाम फ्लाइंग डैगर्स-45 रखा गया. मार्च 2017 तक छह और तेजस मिलने की संभावना है जबकि दो वर्षों में 16 तेजस विमान वायुसेना में शामिल किये जाने की योजना बनाई गयी है.
•    तेजस ने अपनी निर्माण एवं विकास प्रक्रिया के दौरान ढाई हजार घंटे का सफर तय किया जिसमें इस विमान ने तीन हज़ार बार सफलतापूर्वक उड़ान भरी. तेजस ने पहली उड़ान 4 जनवरी 2001 को भरी थी इसके बाद अब तक यह कुल 3184 बार सफल उड़ान भर चुका है.
•    यह हल्का लड़ाकू विमान है जो 50 हजार फीट की ऊंचाई तक उड़ान भर सकता है.
•    इसका वजन 6560 किलोग्राम है तथा इसके पंखों की चौड़ाई 8.20 मीटर है. इसकी लम्बाई 3.20 मीटर और ऊंचाई 4.40 मीटर है.
•    तेजस हवा से हवा में मार करने वाली डर्बी मिसाइलों और जमीन पर स्थित निशाने के लिए आधुनिक लेजर डेजिग्नेटर और टारगेटिंग पॉड्स से लैस है.
•    इसमें सेंसर तरंग रडार लगाया गया है जो दुश्मन के विमान या जमीन से हवा में दागी गई मिसाइल के तेजस के पास आने की सूचना देता है.
•    स्वदेश निर्मित तेजस भारतीय वायुसेना को पुराने पड़ चुके मिग-21 विमानों का विकल्पस उपलब्धव कराएगा.
•    विमान का ढांचा कार्बन फाइबर से निर्मित है  जो धातु की तुलना में कहीं ज्या दा हल्काब और मजबूत है.

Read More
Read Less
Share

अर्जेंटीना महिला टीम ने 7वीं बार चैंपियंस हॉकी ख़िताब जीता

अर्जेंटीना महिला टीम ने 27 जून 2016 को वर्ष 2016 की चैंपियंस हॉकी ट्रॉफी ख़िताब जीता. 
•    ख़िताब पाने के लिए अर्जेंटीना ने नीदरलैंड्स को 2-1 से हराया. 
•    फाइनल मुकाबला इंग्लैंड के ली वैली हॉकी एवं टेनिस सेंटर में आयोजित किया गया. 
•    अर्जेंटीना ने लगातार तीसरी बार यह ख़िताब जीता तथा कुल सातवां ख़िताब था.
•    टूर्नामेंट में अर्जेंटीना की कप्तान कार्ला रेबेची ने सबसे अधिक 7 गोल किये. 
•    नीदरलैंड्स की जॉयसी सोम्ब्रोक को श्रेष्ठ गोल कीपर का ख़िताब दिया गया.
•    कांस्य पदक की दौड़ के लिए अमेरिका ने ऑस्ट्रेलिया को हराया. 
•    अमेरिका का यह पहला चैंपियंस ट्रॉफी मेडल था. इससे पहले 1995 में उन्होंने अर्जेंटीना में मार डेल प्लाटा में कांस्य पदक जीता था.

Read More
Read Less
Share

400 मीटर रेस में निर्मला ने कियो रियो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई

निर्मला शेरोन ने राष्ट्रीय अंतरराज्यीय सीनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में महिलाओं की 400 मीटर दौड़ 51.48 सेकेंड में पूरी करके अगले महीने होने वाले रियो ओलंपिक खेलों के लिये क्वालीफाई किया.
•    निर्मला ने कल 400 मीटर हीट में 52.35 सेकेंड का समय निकाला था और आज उन्होंने उसमें सुधार करके रियो का टिकट हासिल किया. 
•    हरियाणा की इस रनर ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करके एम आर पूवम्मा के 2014 में बनाये गये 51.73 सेकेंड के मीट रिकॉर्ड को भी तोड़ा.
•    निर्मला भारत की तरफ रियो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई करने वाली 24वीं ट्रैक एवं फील्ड एथलीट बन गयी है. 
•    उन्होंने ओलंपिक क्वालीफिकेशन का 52.20 सेकेंड का मार्क पार किया. उनका आज का प्रदर्शन भारत की तरफ से 400 मीटर में चौथा सर्वश्रेष्ठ समय है.
•    पीटी उषा की ट्रेनी जिसना मैथ्यू ने रजत और तमिलनाडु की पी वी सौंदर्य ने कांस्य पदक जीता.
•    पुरूषों की 400 मीटर दौड़ चंडीगढ़ के पंकज मलिक ने 47.40 सेकेंड के साथ जीती. 
•    केरल के जितिन पाल पुरूषों की 400 मीटर बाधा दौड़ में ओलंपिक के लिये क्वालीफाई करने में नाकाम रहे.

Read More
Read Less
Share

प्रख्यात मराठी साहित्यिक विद्वान डॉ रामचंद्र चिंतामन का निधन

प्रख्यात मराठी साहित्यिक विद्वान डॉ रामचंद्र चिंतामन का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया
प्रख्यात मराठी लेखक रामचंद्र चिंतामन धेरे का लंबी बीमारी के बाद 1 जुलाई 2016 को निधन हो गया। वो 86 वर्ष के थे ।
•    धेरे  को लोक साहित्य और महाराष्ट्र की भक्ति परंपरा में उसकी व्यापक अनुसंधान के लिए जाना जाता था।
•    रामचंद्र चिंतामन धेरे  महाराष्ट्र से एक मराठी लेखक थे।
•    वो पुणे जिले के निगडे शहर में पैदा हुए थे ।
•    रामचंद्र ने पुणे विश्वविद्यालय से साहित्य के एक डॉक्टर की उपाधि प्राप्त ।
•    वो मराठी लोक साहित्य और संस्कृति, मराठी साहित्य, महाराष्ट्र में धार्मिक संप्रदायों, और संत कवियों के जीवन पर 100 से अधिक पुस्तकें लिख चुके हैं ।
•    उन्होंने कुछ कविताओं और संगीत नाटकों की भी रचना की।
•    श्री विट्ठल:एक महासमन्वय में अपने काम के लिए उन्हें 1987 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया .
•    उनकी अन्य महत्वपूर्ण साहित्यिक कृतियों में से कुछ हैं दक्षिणेचा लोकदेव खंडोबा, मराठी लोक्संस्क्रुतिचे उपासक, गंगाजली और कई अन्य रचनाएँ हैं 

Read More
Read Less
Share

केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने 29 जून 2016 को संघ लोक सेवा आयोग और भूटान के रॉयल सिविल सेवा आयोग के मध्य किए गए समझौता ज्ञापन का अनुमोदन कर दिया. केन्द्रीय मंत्रिमंडल की इस बैठक की अध्य‍क्षता प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने की.
•    समझौता ज्ञापन का प्रयोजन आरसीएससी और संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) के बीच मौजूदा संबंधों को और सुदृढ़ बनाना है.
•    इसमें अनुभवों और विशेषज्ञता का परस्पर आदान-प्रदान करने का भी प्रावधान है.
•    सिविल सेवा मामलों में अनुभव और विशेषज्ञता का आदान-प्रदान.
•    इसके अंतर्गत भर्ती एवं चयन, ज्ञानवान व्यक्तियों की सेवाओं, अधिकारियों एवं कर्मचारियों के व्यायवसायिक कौशल में वृद्धि जैसे मामलों में सहयोग शामिल है.
•    सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) के प्रयोग में विशेषज्ञता का आदान-प्रदान, कंप्यूरटर आधारित भर्ती परीक्षाएं, तेजी से परीक्षण के लिए एकल विंडो चयन प्रणाली आदि शामिल है. 
•    प्रत्यायोजित अधिकारों के अंतर्गत विभिन्न पदों पर भर्ती में विभिन्न सरकारी एजेंसियों द्वारा प्रक्रियाओं और प्रविधियों की जांच के लिए अपनाए जाने वाले तौर-तरीकों में अनुभवों का आदान-प्रदान करना.
•    रिकॉर्डों, भंडारों का डिजिटलीकरण और ऐतिहासिक रिकॉर्डों को प्रदर्शित करना. 
•    अतीत में यूपीएससी ने कनाडा और भूटान के लोक सेवा आयोगों के साथ भी  समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए.

Read More
Read Less
Share

चीन ने दूसरा शिजियन-16 सीरीज उपग्रह प्रक्षेपित किया

चीन ने 29 जून 2016 को दूसरा शिजियन-16 सीरीज़ का उपग्रह प्रक्षेपित किया. यह उपग्रह लॉन्ग मार्च-4बी रॉकेट द्वारा जियुक्वान सेटेलाईट लॉन्च सेंटर से प्रक्षेपित किया गया. 
•    शिजियन-16 उपग्रह अंतरिक्ष के वातावरण को मापने, विकिरण एवं उसके प्रभाव तथा प्रौद्योगिकी के परीक्षण के लिए उपयोग किया जाएगा.
•    पहला शिजियन-16 उपग्रह अक्टूबर 2013 को प्रक्षेपित किया गया था.
•    लॉन्ग मार्च रॉकेट की यह 231वीं उड़ान थी.  
•    इसका उपयोग समकालिक कक्षा के मौसम उपग्रहों को प्रक्षेपित करने के लिए किया जाता है.
•    पहली बार इसे मई 1999 में उपयोग किया गया. इसे शंघाई एकेडमी ऑफ़ स्पेस फ्लाइट टेक्नोलॉजी (एसएएसटी) द्वारा चांग जेंग-4 प्रणाली के आधार पर विकसित किया गया.
•    यह 2800 किलोग्राम के उपग्रह को पृथ्वी की कक्षा में स्थापित करने में सक्षम है.
•    इस रॉकेट का वजन 2,48,470 किलोग्राम है, इसकी लम्बाई 45.58 मीटर है तथा व्यास 3.35 मीटर है.

Read More
Read Less
Share

चार भारतीयों को अमेरिकी गौरव पुरस्कार 2016

भारतीय मूल के चार अमेरिकीयों को 29 जून 2016 को अमेरिका के गौरव (ग्रेट इमीग्रेंट्स : द प्राइड ऑफ अमेरिका) पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा. यह पुरस्कार प्रतिवर्ष प्रदान किया जाता है.
•    दुनिया के अन्य देशों से अमेरिका में आवासित होने वाले कुल 42 व्यक्तियों को इस पुरस्कार से पुरस्कृत किया जाएगा. 42 लोगों में भारतीय मूल के गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई सहित तीन अन्य लोग शामिल हैं.
•    तीन अन्य भारतीयों में पीबीएस न्यूजआवर के एंकर व वरिष्ठ संवाददाता हरी श्रीनिवासन, मैकिंसे एंड कंपनी के चेयरमैन विक्रम मल्होत्रा और लेखक व आलोचक, नेशनल बुक क्रिटिक्स सर्किल पुरस्कार विजेता भारती मुखर्जी हैं.
•    कार्नेगी कॉर्पोरेशन की ओर से ये पुरस्कार न्यूयॉर्क में 30 जून को दिए जाएंगे.
•    जिन 42 लोगों को पुरस्कारों के लिए चुना गया है, वे 30 विभिन्न देशों से हैं.
•    ‘गिल्डर, गैगनोन, होपवे एंड कंपनी’ की पाकिस्तानी अमेरिकी साझेदार शाइजा रिजवी का नाम भी पुरस्कार के लिए नामित लोगों में शामिल है।
•    कार्नेगी कॉर्पोरेशन के अध्यक्ष वर्तन ग्रेगोरियन के अनुसार ये लोग उन लाखों आव्रजकों का प्रतिनिधित्व करते हैं जो अमेरिका में आर्थिक कारणों, शिक्षा प्राप्त करने, राजनीतिक या धार्मिक शरण लेने या सुरक्षा की दृष्टि से आए.
•    सुंदर पिचाई को पिछले साल अगस्त के महीने में सर्च इंजन गूगल का सीईओ बनाया गया था. चेन्नई में जन्मे 43 साल के सुंदर पिचाई भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान खड़गपुर से स्नातक हैं. 
•    वह भारतीय मूल के दूसरे ऐसे व्यक्ति हैं, जिन्हें आईटी कंपनी की कमान सौंपी गई है। सीईओ बनाए जाने से पहले सुंदर गूगल में वाइस प्रेसीडेंट के पद पर तैनात थे.

Read More
Read Less

All Rights Reserved Top Rankers