Current Affairs
Hindi
Share

आंध्र सरकार के विभागों का अमरावती स्थानांतरण शुरू

विभाजन के दो साल बाद आंध्र प्रदेश सरकार ने अपने सचिवालय को छोड़कर अन्य विभागों का धीरे-धीरे सूबे की नई राजधानी अमरावती में स्थानांतरण शुरू कर दिया है। 
•    अधिकारियों के अनुसार 29 जून से 21 जुलाई के बीच सरकारी विभागों को नई जगह स्थानांतरित कर दिया जाएगा।
•    वैसे अधिकतर विभाग प्रमुखों के कार्यालय राजधानी क्षेत्र में खुल गए हैं। 
•    हालांकि ये बिल्कुल राजधानी क्षेत्र में स्थित नहीं हैं। वे अस्थायी रूप से स्थान की उपलब्धता के आधार पर अलग-अलग जगहों पर स्थित हैं। 
•    संयोग है कि मुख्यमंत्री ने भी विजयवाड़ा स्थित नवनिर्मित इमारत में गत वर्ष जून में ही बैठना शुरू किया था। 
•    अन्य सभी प्रशासनिक तंत्र हैदराबाद में ही स्थापित था। हैदराबाद, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना की संयुक्त राजधानी है।
•    मुख्यमंत्री ने सभी सरकारी कार्यालयों को राजधानी अमरावती में स्थापित करने की अंतिम तिथि पहले 15 जून रखी थी, लेकिन बाद में इसे 12 दिन बढ़ा दिया गया, क्योंकि कई कारणों से मुख्यालय निर्माण में देरी हुई है। 
•    हालांकि विभाग प्रमुखों को 27 जून से अपने-अपने कार्यालय राजधानी क्षेत्र में स्थानांतरित करने को कहा गया है।

Read More
Read Less
Share

अमेज़न दुनिया की सबसे स्मार्ट कंपनी

एमआईटी प्रौद्योगिकी की समीक्षा संपादकों ने 50 सबसे अच्छी कंपनियों की लिस्ट बनाई है।
•    प्रत्येक वर्ष यह 50 स्मार्ट कंपनियों की लिस्ट बनाती है ।
•    इस वर्ष कुछ बड़ी कंपनियों में, अमेजन शामिल है।
•    इसके अलावा माइक्रोसॉफ्ट, बॉश, टोयोटा, और इंटेल जैसी कंपनियों की लिस्ट भी प्रतिस्पर्धा में हैं ।
•    जेफ बेजोस की ऑनलाइन के नेतृत्व वाली खुदरा कंपनी अमेज़न को एक प्रभावी व्यापार मॉडल के साथ नवीन प्रौद्योगिकी के संयोजन के लिए दुनिया के सबसे बेहतरीन कंपनियों में से एमआईटी की वार्षिक सूची में शामिल किया गया है।
•    चीनी वेब सेवा कंपनी बाइएदु और दुनिया के सबसे बड़े डीएनए अनुक्रमण कंपनी को उदबोधन में क्रमश: दूसरा और तीसरा स्थान दिया गया है।
•    अमेज़न एक ई-कॉमर्स कंपनी है जहाँ से कपड़ों से लेकर मशीन की खरीदारी की जा सकती है 
•    अमेज़न दुनियाभर में सबसे ज्यादा मशहूर कंपनी होने के साथ-साथ इसका मोबाइल एप्लीकेशन भी बहुत मशहूर हुआ है 
•    शोध पत्रिका नेचर कम्युनिकेशंस में ये शोध प्रकाशित हुआ था।

Read More
Read Less
Share

डायनासोर के समय के पंक्षियों के पंख म्यांमार में पाए गये

वैज्ञानिकों ने छोटे, प्रागैतिहासिक पक्षियों की पूरी पंख के नमूनों की खोज की है जो करीब 100 मिलियन साल पुराने हैं ।
•    डायनासोर के समय के जीवाश्म पक्षियों के हजारों नमूने चीन में पाया गया। 
•    हालांकि, इन जीवाश्मों के उपर चट्टान हैं जो इनकी रक्षा करते हैं.
•    नए नमूने, चीन के भूविज्ञान विश्वविद्यालय से जिंग लिडा, और ब्रिटेन में ब्रिस्टल विश्वविद्यालय से माइक बेंटन सहित शोधकर्ताओं की टीम द्वारा खोज की गयी.
•    इसकी खोज पूर्वोत्तर म्यांमार में एक प्रसिद्ध जगह एम्बर में की गयी है जहाँ से कीड़ों के उत्तम नमूनों के हजारों उत्पादन किये गये है 
•    यह पहली बार है कि पक्षियों के पूरे भागों का उल्लेख किया गया है।
•    इससे पहले पंख वाले डायनासोर पछियों से भी पहले उड़ना सीख सकते थे। 
•    वैज्ञानिकों बताते हैं कि चीन में आसाधारण लंबे पंखों वाले एक डायनासोर के जीवाश्म का खोज किया गया है जो की डायनासोर के उड़ान के बारे में रोमांचक जानकरी प्रदान करता है।

Read More
Read Less
Share

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने ‘द बर्ड्स ऑफ बन्नी ग्रासलैंड’ पुस्तक का विमोचन किया

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज नई दिल्ली में ‘द बर्ड्स ऑफ बन्नी ग्रासलैंड’ नामक पुस्तक का विमोचन किया। 
•    प्रधानमंत्री को यह पुस्तक गुजरात इंस्टीट्यूट ऑफ डेजर्ट इकोलॉजी (जीयूआईडीई) के वैज्ञानिकों ने भेंट की। 
•    यह पुस्तक गुजरात में कच्छ के बन्नी क्षेत्र में पाए जाने वाली पक्षियों की 250 प्रजातियों पर किए गए शोध कार्यों का संग्रह है। 
•    गुजरात इंस्टीट्यूट ऑफ डेजर्ट इकोलॉजी भुज में है। 
•    यह संस्थान पिछले 15 साल से अधिक समय से पौधों, पक्षियों और कच्छ के रन में मौजूद समुद्री जीवन के बारे में अध्ययन कर रहा है।
•    गुजरात यात्रा कच्छ जिले के भ्रमण के बिना अधूरी मानी जाती है। 
•    पर्यटकों को लुभाने के लिए यहां बहुत कुछ है। 
•    जिले का मुख्यालय है भुज। 
•    जिले में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए हर वर्ष कच्छ महोत्सव आयोजित किया जाता है। 
•    45652 वर्ग किमी. के क्षेत्रफल में फैले गुजरात के इस सबसे बड़े जिले का अधिकांश हिस्सा रेतीला और दलदली है। 
•    जखाऊ, कांडला और मुन्द्रा यहां के मुख्‍य बंदरगाह हैं। 
•    जिले में अनेक ऐतिहासिक इमारतें, मंदिर, मस्जिद, हिल स्टेशन आदि पर्यटन स्थलों को देखा जा सकता है।

Read More
Read Less
Share

भारतीय शूटर संजीव ने विश्व कप शूटिंग में रजत पदक जीता

शूटर संजीव राजपूत ने आई.एस.एस.एफ  वर्ल्ड कप में मेंस 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन में भारत के लिए सिल्वर मेडल जीता। 
•    इसी वर्ल्ड कप की स्कीट निशानेबाजी में मान सिंह ने क्वॉलिफाइंग दौर में चौथा स्थान हासिल किया। अब उनकी निगाह फाइनल पर है। 
•    रियो के लिए क्वॉलिफाइ कर चुके मैराज अहमद खान ने भी खुद को स्कीट के फाइनल की होड़ में बनाए रखा है। 
•    संजीव राजपूत ने रियो ओलिंपिक से पहले आयोजित अंतिम वर्ल्ड कप फाइनल में 456.9 पॉइंट जुटाए। 
•    क्रोएशिया के पीटर गोर्सा ने 457.5 पॉइंट्स के साथ गोल्ड, जबकि कोरिया के हियोनजुन किम ने 445.5 पाइंट के साथ ब्रॉन्ज मेडल हासिल किया। 
•    ओलिंपिक ब्रॉन्ज मेडलिस्ट गगन नारंग 1161 पॉइंट के साथ 23वें स्थान पर रहे, जबकि चैन सिंह 1159 पॉइंट लेकर 32वें स्थान पर रहे। 
•    75 में से 74 पॉइंट: स्कीट शूटर मान सिंह ने आई.एस.एस.एफ वर्ल्ड कप के क्वॉलिफाइंग राउंड में चौथा स्थान हासिल कर फाइनल की तरफ कदम बढ़ा दिए हैं। उन्होंने 75 में से 74 पॉइंट बनाए। रियो के लिए क्वालीफाई कर चुके मैराज अहमद खान ने भी 73 पॉइंट बनाते हुए खुद को फाइनल की रेस में बनाए रखा।

Read More
Read Less
Share

ग्रेट बैरियर रीफ 2016 के सर्वश्रेष्ठ स्थान घोषित

ग्रेट बैरियर रीफ 2016 के सर्वश्रेष्ठ स्थान घोषित किया गया है. इसे छुट्टियों के लिए भी सर्वश्रेष्ठ स्थान माना गया है .
•    ग्रेट बैरियर रीफ, क्वींसलैंड के उत्तरी-पूर्वी तट के समांतर बनी हुई, विश्व की यह सबसे बड़ी मूँगे की दीवार है।
•    इस दीवार की लंबाई लगभग 1200 मील है। 
•    यह कई स्थानों पर खंडित है एवं इसका अधिकांश भाग जलमग्न है, परंतु कहीं-कहीं जल के बाहर भी स्पष्ट दृष्टिगोचार होती है। 
•    समुद्री तूफान के समय अनेक पोत इससे टक्कर खाकर ध्वस्त हो जाते हैं। 
•    फिर भी, यह पोतचालकों के लिये विशेष सहायक है, क्योंकि दीवार के भीतर की जलधारा इस बृहत शैलभित्ति द्वारा सुरक्षित रहकर तटगामी पोतों के लिये अति मूल्यवान् परिवहन मार्ग बनाती है तथा पोत इसमें से गुजरने पर खुले समुद्री तूफानों से बचे रहते हैं।

Read More
Read Less
Share

सीएसआईआर ने मधुमेह से लड़ने वाली आयुर्वेदिक दवा बीजीआर-34 को लॉन्च किया.

मधुमेह रोगियों के लिए खुशखबरी है. द काउंसिल फॉर साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (सीएसआईआर) ने सोमवार को मधुमेह से लड़ने वाली आयुर्वेदिक दवा बीजीआर-34 को लॉन्च किया.
•    टाइप टू डायबिटीज से लड़ने के लिए बनाई गई बीजीआर-34 को लखनऊ स्थित नेशनल बॉटैनिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट (एनबीआरआई) और सेंट्रल इंस्टीट्यूट फॉर मेडिसिनल एंड एरोमैटिक प्लांट्स (सीआईएमएपी) द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया है.
•    एनबीआरआई के वरिष्ठ प्रमुख वैज्ञानिक एकेएस रावत ने कहा, "मधुमेह के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली आधुनिक दवाओं में  साइड-इफेक्ट्स और जहरीलाे पदार्थ होते हैं. जबकि बीजीआर-34 केवल ब्लड शुगर को नियंत्रित करने और अन्य हानिकारक दवाओं के दुष्प्रभावों को सीमित करने के काम आती है."
•    इसके लिए एनबीआरआई और सीआईएमएपी के वैज्ञानिकों ने आयुर्वेद में वर्णित करीब 500 प्राचीन जड़ी-बूटियों का अध्ययन किया. 
•    इनमें दरहरिद्र, गिलोय, विजयसर, गुड़मर, मजीठ और मेथिका को शामिल करके मधुमेह-रोधी दवा विकसित की है.

Read More
Read Less
Share

आइसलैंड राष्ट्रपति चुनाव में विजयी हुए प्रोफेसर जोहानसन

आइसलैंड में राजनीति के नए चेहरे एवं इतिहास के प्रोफेसर गुडनी जोहानसन ने 39.1 प्रतिशत वोटों के साथ राष्ट्रपति चुनाव में जीत हासिल कर ली है। 
•    इस आशय की घोषणा सार्वजनिक टीवी चैनल ‘आरयूवी’ पर रविवार (26 जून) की गयी। 
•    अप्रैल में हुए तथा-कथित पनामा पेपर्स लीक के बाद जोहानसन ने राष्ट्रपति चुनाव लड़ने का फैसला लिया। इस पेपर्स लीक में विदेशों में मौजूद बैंक खातों का ब्योरा था, जिसमें आइसलैंड के कई नेताओं का भी नाम था। 
•    पूरे चुनाव प्रचार के दौरान सत्ता-विरोधी लहर पर सवार रहे और अपने गैर-विभाजनकारी, स्वतंत्र राष्ट्रपतित्व के दृष्टिकोण पर जोर देते रहे। 
•    यह जीत उनके लिए बड़ी खुशी लेकर आई है क्योंकि प्रोफेसर रविवार (26 जून) को अपना 48वां जन्मदिन मना रहे हैं। 
•    बिना किसी पार्टी के समर्थन चुनाव लड़ रही महिला उद्योगपति हाला तोमास्डोतिर 27.9 प्रतिशत मतों के साथ दूसरे स्थान पर रही हैं। 
•    आइसलैंड में राष्ट्रपति का पद भारतीय राष्ट्रपति के पद के समान ही है। देश में ज्यादा महत्वपूर्ण आम चुनाव वसंत के मौसम में होने हैं। 
•    जोहानसन अब 73 वर्षीय उलोफुर रगनार ग्रिमसन का स्थान लेंगे। वह पिछले 20 वर्ष से राष्ट्रप्रमुख हैं। 

Read More
Read Less
Share

भारत के सीएजी चीन की नांजिंग यूनीवर्सिटी में मानद प्रोफेसर की उपाधि से सम्मानित

हिन्दुस्तान के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक शशि कांत शर्मा को चीन में नांजिंग ऑडिट विश्वविद्यालय में मानद प्रोफेसर की उपाधि से सम्मानित किया गया।
•    एक सरकारी विज्ञप्ति में कहा गया नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक शशि कांत शर्मा को चीन की नांजिंग ऑडिट विश्वविद्यालय का मानद प्रोफेसर बनाया गया है। 
•    यह इकलौता विश्वविद्यालय है जिसे इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनल ऑडिटर्स से मान्यता प्राप्त है।
•    नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) शशि कांत शर्मा ने इस अवसर पर अपने संबोधन में राजकाज संचालन के बदलते ढांचे के मद्देनजर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लेखापरीक्षक समुदाय की क्षमता निर्माण पर जोर दिया।
•    उन्होंने इस अवसर पर 5 सर्वोच्च लेखापरीक्षक संस्थानों (एसएआई) के बीच आपसी सहयोग पर जोर दिया। खासतौर से डाटा विश्लेषण, ढांचागत परियोजनाओं के आडिट और पर्यावरण से जुड़े मुद्दों पर सहयोग बढ़ाने पर जोर दिया।
•    सीएजी शशि कांत शर्मा बीजिंग में ब्रिक्स देशों के सर्वोच्च ऑडिट संस्थानों की पहली बैठक में भाग लेने पहुंचे हैं। 
•    उन्होंने कहा कि ब्रिक्स लेखापरीक्षक संस्थानों (एसएआई) के नेताओं ने लेखा परीक्षकों की गुणवत्ता सक्रियता बढ़ाने पर सहमति जताई है ताकि ये सर्वोच्च ऑडिट संस्थान विकसित आर्थिक एवं सामाजिक विकास में बेहतर भूमिका निभा सकें।
•    इससे पहले नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक के नेतृत्व में ब्रिक्स देशों के महालेखा परीक्षकों के एक शिष्टमंडल ने चीन के उप प्रधानमंत्री जांग गोओली के साथ बैठक की और सम्मेलन की प्रगति पर चर्चा की।
•    बैठक में नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक ने अपने कार्यक्रम में सेवाओं आंकड़ों को जुटाने, व्यवस्थित करने और रिपोर्टिग में सेवाओं को स्वचलित बनाने की दिशा में उठाए बड़े कदम के बारे में बताया।

Read More
Read Less
Share

नागालैंड सरकार ने महिलाओं के लिए “सखी-वन स्टॉप केंद्र” के रूप में “181” हेल्पलाइन जारी की

नागालैंड सरकार ने हिंसा प्रभावित महिलाओं के लिए “सखी-वन स्टॉप केंद्र” के रूप में “181” हेल्पलाइन जारी की. 
•    यह केंद्र निजी और सार्वजनिक दोनों जगहों पर हिंसा प्रभावित महिलाओं को आवश्यक सुरक्षा मुहैया कराएगा .
•    साथ ही यह हेल्पलाइन नंबर महिलाओं से सम्बंधित कानून और सरकारी योजनाओं के बारे में भी जानकारी प्रदान करेगा 
•    दिल्ली में हुए निर्भया कांड के बाद महिलाओं पर होने वाले अत्याचार व शोषण को लेकर गंभीर शासन ने निर्भया सेंटर स्थापित किया था। 
•    अब इसे बदलकर वन स्टॉप सेंटर (सखी) किया गया । 
•    पीड़ित महिलाओं की तत्काल मदद व शीघ्र कार्रवाई के लिए शुरू होने वाले केंद्र का नियंत्रण महिला एवं बाल विकास विभाग के जिम्मे होगा।
•    महिला एवं बाल विकास विभाग के अधीन चलने वाले इस केंद्र में पीड़ित महिलाओं को तत्काल मदद पहुंचाने की व्यवस्था की जाएगी।

Read More
Read Less

All Rights Reserved Top Rankers