Current Affairs
Hindi
Share

नासा ने न्यू होराइजन स्पेस मिशन को क्विपर बेल्ट तक बढ़ाया

नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा)  क्विपर बेल्ट में गहरी जांच करने के लिए नए क्षितिज मिशन के लिए अपनी मंजूरी दे दी
•    प्लूटो के पास से गुजरने की ऐतिहासिक सफलता मिलने के बाद नासा का न्यू होराइजन मिशन अंतरिक्ष की गहराइयों में उड़ान भरेगा। 
•    यह मिशन अंतरिक्ष में उस प्राचीन पिंड की तरफ बढ़ेगा जिसे सौर प्रणाली निर्माण का शुरुआती ब्लॉक माना जाता है।
•    कुइपर बेल्ट की गहराई में स्थित पिंड तक अंतरिक्ष यान 1 जनवरी 2019 पहुंच सकता है। यही इसका निर्धारित समय है। 
•    कुइपर बेल्ट को 2014 एमयू69 के नाम से जाना जाता है। नासा के ग्रह विज्ञान निदेशक जिम ग्रीन ने कहा, 'प्लूटो के लिए न्यू होराइजन मिशन हमारे अनुमान से आगे निकल गया है और आज भी अंतरिक्ष यान के आंकड़े हैरत पैदा कर रहे हैं।'
•    जुलाई 2016 के पहले सप्ताह में नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) ने एक रहस्यमय वस्तु क्विपर बेल्ट में गहरी जांच करने के लिए नए क्षितिज मिशन को अपनी मंजूरी दे दी है।
•    इस मिशन में  2014 MU69 नामक वस्तु का पता लगाया  जाएगा।
•    उम्मीद है कि नया क्षितिज 31 दिसम्बर 2018 या 1 जनवरी 2019 तक 2014 MU69 तक पहुंच जाएगा।
•    2014 MU69 शुरू में क्रमश: नए क्षितिज और हबल टीमों द्वारा PT1 और 1110113Y के नाम से जाना जाता था ।
•    2014 MU69 एक प्राचीन वस्तु और सौर प्रणाली के प्रारंभिक निर्माण ब्लॉकों में से एक माना जाता है।
•    इसे अगस्त 2015 में नए क्षितिज 'लक्ष्य के रूप में चयनित किया गया था।
•    अक्टूबर और नवंबर 2015 में चार बार रास्तों  में परिवर्तन करने के बाद, नया क्षितिज 2014 MU69 की राह पर है। 
•    जिसकी खोज अंतरिक्ष यान लांच होने तक नहीं की जा सकी थी विज्ञान उसे सामने लाने में जुटा है।
•    नए क्षितिज केप केनवरल एयर फोर्स स्टेशन से 19 जनवरी 2006 को शुरू किया गया था।
•    14 जुलाई 2015, इसे प्लूटो की सतह से ऊपर 12500 किमी उड़ान भरी, 

All Rights Reserved Top Rankers