Current Affairs
Hindi
Share

भारत ने इजरायल के साथ मिलकर बनाई मिसाइल का सफल परीक्षण किया

चांदीपुर स्थित इंटीग्रेटेड टेस्ट रेंज से सुबह लगभग आठ बजकर 15 मिनट पर एक मोबाइल लॉन्चर की मदद से दागा गया। 

•    इस पूरी प्रणाली में मिसाइल के अलावा मल्टी फंक्शनल सर्विलांस और खतरे की सूचना देने वाला रेडार (एमएफ एसटीएआर) लगा है ताकि मिसाइल और उसके रास्ते की पहचान की जा सके और उसका दिशानिर्देशन किया जा सके। 
•    डीआरडीओ के वैज्ञानिक ने कहा, 'एमएफ-स्टार के साथ यह मिसाइल प्रयोगकर्ताओं को हवाई खतरों को अप्रभावी करने की क्षमता से लैस करेगी।'
•    डीआरडीओ की हैदराबाद स्थित डिफेंस रिसर्च ऐंड डिवेलपमेंट लैबरेटरी (डीआरडीएल) ने इजरायल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज के साथ मिलकर यह मिसाइल विकसित की है। 
•    सतह से हवा में लंबी और मध्यम दूरी तक की मारक क्षमता रखने वाली ऐसी 100 मिसाइलों का प्रति वर्ष उत्पादन करने के लिए मेसर्स भारत डायनेमिक्स लिमिटेड में एक नई उत्पादन इकाई की स्थापना की गई है। 
•    इस मिसाइल का परीक्षण पहले बुधवार को ही होना था लेकिन अंतिम समय पर इसे गुरुवार तक टाल दिया गया था।
•    इससे पहले, भारतीय नौसेना ने सतह से हवा में लंबी दूरी तक की मारक क्षमता रखने वाली मिसाइल का सफल परीक्षण किया था। यह परीक्षण 30 दिसंबर 2015 को पश्चिमी समुद्री तट पर आईएनएस कोलकाता से किया गया था। 
•    सतह से हवा में मारने वाली इस तरह की मध्यम दूरी की मिसाइलों की मारक क्षमता 50 से 70 किलोमीटर की होती है।

All Rights Reserved Top Rankers