Current Affairs
Hindi
Share

बी.के.गरुदाचार अब नहीं रहे

बीके गुरुदाचार , भारत के सबसे पुराने प्रथम श्रेणी क्रिकेटर का 99 की उम्र में बैंगलोर में 26 फ़रवरी मृत्यु हो गई।

•  दाएँ हाथ के बल्लेबाज और लेग ब्रेक गेंदबाज गुरुदाचार 1935 और 1946 के बीच प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 29.63 की औसत से 27 मैचों में 1,126 रन बनाए हैं।
• एक गेंदबाज के रूप में, गुरुदाचार ने वास्तव में 100 विकेट लिए हैं, 
• गुरुदाचार एक शक्तिशाली ऑलराउंडर थे और एक लंबी अवधि के लिए मैसूर टीम की कप्तानी की . ये उन्होंने तब किया जब वो अपने चरम पर थे और तभी मैसूर अपने पहले रणजी ट्रॉफी जीत दर्ज की, 1941-42 में .
• गुरुदाचार ने मैसूर के लिए मद्रास के खिलाफ वर्ष 1935 में अपने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पदार्पण किया।
• 34 विकेट के साथ सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बने 1941-1942 में 
• उन्होंने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ 164 होलकर टीम के खिलाफ मैच में 1946 में बनाया आया था 

All Rights Reserved Top Rankers