Current Affairs
Hindi
Share

शांगरी-ला सम्मेलन का सिंगापुर में उद्घाटन

चीन के केंद्रीय सैन्य आयोग के संयुक्त स्टाफ विभाग के उप प्रमुख एडमिरल सुन जियांगू शांगरी-ला सम्मेलन में अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय सुरक्षा के मुद्दों पर चीन के रुख को स्पष्ट करेंगे।
•    चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता यांग युजुन ने चीनी मीडिया से कहा कि एडमिरल सुन रविवार को 15वें शांगरी-ला डायलॉग के विस्तृत सत्र में 'विवाद सुलझाने की चुनौतियों' पर आधारित एक भाषण देंगे।
•    प्रवक्ता के अनुसार सुन विश्व और एशिया-प्रशांत क्षेत्र में शांति, सुरक्षा और स्थिरता बनाए रखने में चीनी सेना के प्रयासों और अंतरराष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय सुरक्षा मुद्दों पर चीन की स्थिति की जानकारी देंगे। 
•    शांगरी-ला डायलॉग के मौके पर सुन 10 से अधिक देशों के रक्षा मंत्रियों, सैन्य प्रमुखों, उच्च रक्षा अधिकारियों से मिल कर साझा हित के मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान करेंगे। 
•    15वां शांगरी-ला डायलॉग (एशिया-प्रशांत रक्षा और सुरक्षा शिखर सम्मेलन) शुक्रवार को सिंगापुर में शुरू हुआ। 
•    इस वर्ष की वार्ता में 52 देशों और क्षेत्रों के 32 सरकारी प्रतिनिधिमंडल सहित 560 से अधिक प्रतिनिधि भाग लेंगे।
•    

Read More
Read Less
Share

एडमिरल सुनील लांबा ने नौसेना प्रमुख के रूप में कार्यभार संभाला

एडमिरल सुनील लांबा ने नए नौसेना प्रमुख के रूप में 31 मई 2016 को कमान संभाली और देश के समुद्री सीमा क्षेत्र की सुरक्षा सुनिश्चित करने का संकल्प लिया. 

•    नेविगेशन एवं डायरेक्शन के विशेषज्ञ 58 वर्षीय लांबा के पास नौसेना प्रमुख के रूप में तीन वर्ष का कार्यकाल होगा.उन्होंने एडमिरल आरके धवन के बाद नौसेना प्रमुख की जिम्मेदारी संभाली है. 
•    धवन सेवानिवृत्त हो गए हैं. 
•    नौसेना में सेवाएं देने वाले पुरुष एवं महिलाएं पेशेवर रूप से प्रशिक्षित, प्रतिबद्ध एवं देशभक्त हैं और वे यह सुनिश्चित करने के प्रति प्रतिबद्ध हैं कि राष्ट्रीय हितों की कसिी भी जगह, कसिी भी समय और हर जगह रक्षा की जाए.
•    डिफेंस सर्वसिेज स्टाफ कॉलेज के पूर्व छात्र लांबा नौसेना प्रमुख बनने वाले 21वें भारतीय हैं. पहले दो नौसेना प्रमुख ब्रितानी थे.
•    इससे पहले इसी साल फरवरी में उन्होंने पश्चिम कमान के प्रमुख का पद संभाला था. 
•    पूर्व में वे कोच्चि स्थित दक्षिणी कमान के फ्लैग ऑफसिर कमांडिंग इन चीफ के पद पर काम कर चुके हैं. 
•    उन्होंने नौसेना प्रमुख से सेवानिवृत्त हुए एडमिरल आरके धवन की जगह ली है.
•    इससे पहले सोमवार को पश्चिमी नौसेना कमान के अधिकारियों ने लांबा को पारंपरिक पुलिंग आउट समारोह के साथ विदा किया था. 
•    उन्होंने कहा है कि भारतीय नौसेना के साथ सहयोग करने की कई देशों ने इच्छा जतायी है. भारतीय नौसना के कार्यप्रदर्शन की भी उन्होंने सराहना की है.

Read More
Read Less
Share

रक्षा मंत्री ने मझगाँव डॉक शिपबिल्डर लिमिटेड, मुंबई में पनडुब्बी कार्यशाला का उद्घाटन किया

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने मझगांव डॉक लिमिटेड शिपबिल्डर्स मुंबई, महाराष्ट्र में अत्याधुनिक पनडुब्बी कार्यशाला का उद्घाटन किया।
•    ये उद्घाटन भारतीय नौसेना के लिए पनडुब्बी निर्माण के क्षेत्र में आत्मनिर्भरता की दिशा में एक बड़ा कदम माना जा रहा है।
•    ये इमारत करोड़ 153 रुपये की लागत से निर्मित संरचना है। 
•    यह एक साथ कई पनडुब्बियों के निर्माण को संभालने के लिए सक्षम है 
•    इस कार्यशाला में मलजल उपचार योजना, ग्रे जल उपचार संयंत्र, वर्षा जल संचयन, सीवेज, तेल पानी और भूरे रंग के पानी के उपचार के लिए क्रमश: तेल जल विभाजक संयंत्र, नगर निगम नालियों में शून्य निर्वहन जैसी कई विशेषताएं है।
•    पनडुब्बी एक प्रकार का जलयान (वॉटरक्राफ़्ट) है जो पानी के अन्दर रहकर काम कर सकता है। यह एक बहुत बड़ा, मानव-सहित, आत्मनिर्भर डिब्बा होता है। 
•    पनडुब्बियों के उपयोग ने विश्व का राजनैतिक मानचित्र बदलने में बहुत बड़ी भूमिका निभाई है। 
•    पनडुब्बियों का सर्वाधिक उपयोग सेना में किया जाता रहा है और ये किसी भी देश की नौसेना का विशिष्ट हथियार बन गई हैं। 
•    पनडुब्बियाँ पहले भी बनायी गयीं थीं, किन्तु ये उन्नीसवीं शताब्दी में लोकप्रिय हुईं तथा सबसे पहले प्रथम विश्व युद्ध में इनका जमकर प्रयोग हुआ।

Read More
Read Less
Share

भारतीय वायुसेना ने ब्रह्मोस मिसाइल का सफल परीक्षण किया

भारतीय वायुसेना द्वारा 27 मई 2016 को सुपरसोनिक ब्रह्मोस मिसाइल का वेस्टर्न फायरिंग रेंज में सफल परीक्षण किया गया. 
•    इसके पहले नबंवर  2015 में सेना ने पोखरण मोबाइल लॉन्चर से इसका टेस्ट किया था.
•    शॉर्ट रेंज वाली यह मिसाइल 290 किलोमीटर तक मार कर सकती है. 
•    यह मिसाइल डीआरडीओ एवं रशियन टेक्नोलॉजी के सहयोग से बनाई गई है. 
•    ब्रह्मोस मिसाइल की स्पीड 2.8 मैक है. यह विश्व की सबसे अधिक तीव्र गति की मिसाइलों में शामिल है.
•    ब्रह्मोस मिसाइल जमीन और समुद्र से आसमान में दुश्मन पर हमला कर सकती है.
•    वर्ष 2007 में ब्रह्मोस मिसाइल सिस्टम को भारतीय सेना के सैन्य बेड़े में शामिल किया गया.
•    ब्रह्मोस मिसाइल अपने साथ 300 किलोग्राम तक विस्फोटक ले जा सकती है.
•    भारतीय सेना में ब्रम्होस की एक ख़ास जगह है . इस मिसाइल को डॉ. अब्दुल कलाम से जोड़कर भी देखा जाता है जिन्हें भारत का मिसाइल मैन कहा जाता है .

Read More
Read Less
Share

'ब्रह्मोस' मिसाइल को दूसरे देशों को एक्सपोर्ट करने के लिए भारत-रूस सहमत

भारत और रूस 'सैद्धांतिक तौर' पर दुनिया की सबसे तेज एंटी शिप क्रूज़ मिसाइल ब्रह्मोस का निर्यात दूसरे देशों को करने के लिए तैयार हो गए हैं। 

•    इन देशों में यूएई, वियतनाम, दक्षिण अफ्रीका और चिली शामिल हैं।
•    रूस ब्रह्मोस ज्वाइंट वेंचर में पार्टनर देश है। इसलिए सहमति के लिए बातचीत कई अन्य देशों से चल रही है। 
•    जिनमें फिलिपीन्स, दक्षिण कोरिया, अल्जीरिया, ग्रीस, मलेशिया, थाईलैंड, मिस्त्र, सिंगापुर, वेनेजुएला और बुल्गारिया के साथ इसे अगले स्तर पर ले जाया गया है।
•    इस साल के अंत तक ब्रह्मोस एयरोस्पेस यूएई के साथ डील पर हस्ताक्षर करेगा। 
•    वियतनाम के मामले में चीन ने अपनी चिंता का भारत के हथियार उपलब्ध कराने को लेकर पहले ही इज़हार किया है। 
•    दक्षिण चीन सागर और वियतनाम समुद्री सीमाओं को लेकर संघर्षरत हैं।
•    ब्रह्मोस एक शॉर्ट रेंज रैमजेट सुपरसोनिक क्रूज़ मिसाइल है। जिसे पनडुब्बियों, जहाजों, एयरक्राफ्ट्स और जमीन से भी लॉन्च किया जा सकता है। 
•    मिसाइल बनाने के लिए ब्रह्मोस एयरोस्पेस प्राइवेट लिमिटेड की स्थापना की गयी थी । 
•    ब्रह्मोस का नाम दोनों देशों की दो नदियों के नामों के आधार पर रखा गया है। इसमें भारत की ब्रह्मपुत्र और रूस की मोस्कवा।

Read More
Read Less
Share

लेफ्टिनेंट जनरल एसके सैनी बने भारतीय सैन्य अकादमी के नये कमान्‍डेंट

भारतीय सैन्य अकादमी (आइएमए) के नये कमान्डेंट लेफ्टिनेंट जनरल एसके सैनी को बनाया गया। पिछले काफी वक्त से आइएमए मुखिया विहीन था।
•    लेफ्टिनेंट जनरल सैनी ने जून 1981 में जाट रेजीमेंट की 7वीं बटालियन से कमीशन लिया था। 
•    36 वर्ष के अपने करियर में वह कई महत्वपूर्ण पदों पर आसीन रहे।
•    वो अपनी बटालियन, एक माउंटेन ब्रिगेड व जम्मू-कश्मीर में काउंटर इंसरजेंसी फोर्स को कमान कर चुके हैं। 
•    सैनी नेशनल डिफेंस अकादमी (एनडीए) में सीनियर डायरेक्टिंग स्टाफ व नेशनल सिक्योरिटी गार्ड्स ट्रेनिंग सेंटर में वैपन इंस्ट्रक्ट्रर भी रहे।
•    सैनी एक अच्छे लेखक भी हैं। साथ ही कई मैगजीन, समाचार पत्रों व जर्नल में लिखते रहे हैं। 
•    अपनी उत्तम सेवा एवं शौर्य के लिए उन्हें कई सम्मान मिल चुके हैं। 
•    आइएमए कमान्डेंट बनने से पहले वह एनडीसी, नई दिल्ली में सीनियर डायरेक्टिंग स्टाफ के पद पर आसीन थे। 
•    1922 में प्रिंस ऑफ़ वेल्स ने इंग्लैंड के सैंडहर्स्ट के रोंयल मिलिटरी ऐकडमी जाने वाले भारतीयों के एक पोषक स्कूल के रूप में देहरादून से बाहर इंडियन मिलिटरी कॉलेज की स्थापना की.

Read More
Read Less
Share

अमेरिकी सदन ने भारत के साथ रक्षा संबंध बढ़ाने को दी मंजूरी

अमेरिका की प्रतिनिधि सभा ने भारत के साथ रक्षा संबंध विकसित करने और रक्षा उपकरणों की बिक्री एवं प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के मामले में उसे अन्य नाटो सहयोगी देशों के साथ लाने के कदम के तहत एक द्विदलीय समर्थन वाले विधेयक को मंजूरी दे दी है. 
•    भारत के साथ रक्षा एवं सुरक्षा सहयोग बढ़ाने से जुड़े इस संशोधन को होल्डिंग और एमी बेरा का और सदन की विदेश मामलों की समिति के अध्यक्ष एड रॉयस और इसी समिति के रैंकिंग सदस्य इलियट एंगल द्वारा प्रायोजित किया गया था.
•    भारत के लिए, यह विधेयक सरकार को प्रोत्साहित करता है कि वह मानवीय मदद और आपदा राहत, समुद्री डकैती से निपटने एवं मैरीटाइम जागरूकता जैसे साझा हितों वाले अभियानों के लिए अमेरिका के साथ संयुक्त नियोजन को अधिकृत करे.
•    राष्ट्रपति पद के लिए रिपब्लिकन पार्टी के पूर्व उम्मीदवार सीनेटर मार्को रुबियो इस सप्ताह इसके सह-प्रायोजक बन गए थे.

Read More
Read Less
Share

भारत ने किया स्वदेशी सुपरसोनिक इंटरसेप्टर मिसाइल का सफल परीक्षण

संपूर्ण रूप से बहुस्तरीय बैलेस्टिक मिसाइल रक्षा प्रणाली हासिल करने के प्रयास के तहत भारत ने स्वदेशी सुपरसोनिक इंटरसेप्टर मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया। 
•    यह मिसाइल उसकी ओर आने वाली किसी भी शत्रु बैलेस्टिक मिसाइल को नष्ट करने की क्षमता रखती है।
•    रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के सूत्रों ने बताया, ‘‘उड़ान की स्थिति में इंटरसेप्टर के कई मानकों का सत्यापन करने के लिए यह परीक्षण किया गया जो सफल रहा है।’’
•    इस इंटरसेप्टर के लिए पृथ्वी मिसाइल के नौसैन्य संस्करण को लक्ष्य के तौर पर स्थापित किया गया। इस लक्ष्य को बंगाल की खाड़ी में खड़े पोत से छोड़ा गया था।
•    लक्ष्य वाली मिसाइल को दिन में करीब 11.15 बजे दागा गया और इंटरसेप्टर ‘एडवांस्ड एयर डिफेंस (एएडी) मिसाइल को अब्दुल कलाम द्वीप पर तैनात किया गया था जिसे रडार से संकेत मिल रहे थे। 
•    इस इंटरसेप्टर ने लक्ष्य वाली मिसाइल को काफी उंचाई पर ही नष्ट कर दिया।
•    डीआरडीओ के एक वैज्ञानिक ने कहा, ‘‘इंटरसेप्टर की मारक क्षमता का आकलन कई निगरानी स्रोतों से किया गया।’’ 
•    इंटरसेप्टर 7.5 मीटर लंबा मजबूत रॉकेट है जो नौवहन प्रणाली, हाईटेक कंप्यूटर और इलेक्ट्रो-मैनिकल एक्टिवेटर की मदद से गाइडेड मिसाइल से संचालित होता है।

Read More
Read Less
Share

भारत और अमेरिका के बीच पहली समुंद्री सुरक्षा वार्ता संपन्न

भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका के बीच 16 मई 2016 को हाल ही में गठित समुद्री सुरक्षा वार्ता के तहत विचार विमर्श के पहले दौर का आयोजन किया गया .
•    संवाद रक्षा अधिकारियों, विदेश मंत्रालयों के बीच आयोजित किया गया।
•    योजना और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग (पीआईसी) शंभू कुमारन, विदेश मंत्रालय के संयुक्त सचिव मुनु माहवार ने भारत का प्रतिनिधित्व किया 
•    दोनों पक्षों ने एशिया-प्रशांत समुद्री चुनौतियों, नौसैनिक सहयोग, और बहुपक्षीय सगाई सहित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की।
•    पनडुब्बी सुरक्षा और पनडुब्बी रोधी युद्ध पर नौसेना के लिए चर्चा भी की गई थी।
•    भारत और अमेरिका के बीच नवगठित समुद्री सुरक्षा वार्ता दोनों देशों के बीच बढ़ते संबंधों का एक संकेत है।
•    भारतीय नौसेना सन् 1613 ई. में ईस्ट इंडिया कंपनी की युद्धकारिणी सेना के रूप में इंडियन मेरीन संगठित की गई।
•    1685 ई. में इसका नामकरण "बंबई मेरीन" हुआ, जो 1830 ई. तक चला। 
•    8 सितंबर 1934 ई. को भारतीय विधानपरिषद् ने भारतीय नौसेना अनुशासन अधिनियम पारित किया और रॉयल इंडियन नेवी का प्रादुर्भाव हुआ।
•    द्वितीय विश्वयुद्ध के समय नौसेना का विस्तार हुआ और अधिकारी तथा सैनिकों की संख्या 2,000 से बढ़कर 30,000 हो गई एवं बेड़े में आधुनिक जहाजों की संख्या बढ़ने लगी।

Read More
Read Less
Share

भारतीय वायु सेना ने इलेक्ट्रॉनिक रखरखाव प्रबंधन शुरुआत की

भारतीय वायु सेना ने इलेक्ट्रॉनिक रखरखाव प्रबंधन प्रणाली (ई-एमएमएस) परियोजना, जो की एक स्वचालित सैन्य रखरखाव सुविधा है, की शुरुआत की | 
•    इस परियोजना का शुभारंभ पुणे, महाराष्ट्र में एयर चीफ मार्शल अरूप राहा द्वारा किया गया।
•    इस परियोजना के लागू हो जाने के बाद से रख रखाव के कामकाज ऑनलाइन मॉनिटर किये जा सकेंगे 
•    भारतीय वायुसेना भारतीय सशस्त्र सेना का एक अंग है जो वायु युद्ध, वायु सुरक्षा, एवं वायु चौकसी का महत्वपूर्ण काम देश के लिए करती है। 
•    आज़ादी के बाद से ही भारतीय वायुसेना पडौसी मुल्क पाकिस्तान के साथ चार युद्धों व चीन के साथ एक युद्ध में अपना योगदान दे चुकी है। 
•    अब तक इसने कईं बडे मिशनों को अंजाम दिया है जिनमें ऑपरेशन विजय - गोवा का अधिग्रहण, ऑपरेशन मेघदूत, ऑपरेशन कैक्टस व ऑपरेशन पुमलाई शामिल है। 
•    ऐसें कई विवादों के अलावा भारतीय वायुसेना संयुक्त राष्ट्र के शांति मिशन का भी सक्रिय हिस्सा  रही है।

Read More
Read Less

All Rights Reserved Top Rankers